मच्छरों की फौज ने उड़ाई शहरवासियों की नींद, स्वास्थ्य विभाग ने साध ली है चुप्पी

मच्छर, बरसात, स्वास्थ्य विभाग , madhubani news, bihar news, hindi samachar, news, bihar samachar

मधुबनी/फुलपरास (वीरेंद्र दत्त): मच्छरों के उत्पात से इन दिनों हुई अप्रत्याशित वृद्धि से जन साधारण से लेकर माल मवेशियों तक में परेशानी देखी जा रही है. बरसात के आते ही पूर्व से जारी मच्छरों के उत्पात में कई गुणा वृद्धि देखी जा रही है. जिसके कारण गांव देहात से लेकर बाजारों आदि में लोगों का जीना मुहाल हो रहा है. संध्या होते ही अचानक सैकड़ों हजारों की संख्या में मच्छरों उत्पात से घर, दुकान एवं सड़क पर खड़े होकर बातचीत करने वाले लोगों तक को इसका कहर झेलने की मजूरी बन गई है.

संध्याकाल में खूंटे पर बंधे मवेशियों तक में इसके कारण बैचेनी देखी जा सकती है. कास्तकारों की माने तो मवेशियों के घरों में दिन रात धुंआ के लिए अलाव का जलाना अपरिहार्य बनता जा रहा है. दुधारु पशुओं का दुग्ध उत्पादन मच्छरों के कारण प्रभावित हो रहा है. संध्या काल में मवेशियों का दुध निकालना तक मुश्किल हो रहा है. बच्चों की पढ़ाई लिखाई, रसोई घरों में खाना पकाने, मवेशियों की देखभाल आदि में लगे कास्तकारों, दुकानों में बैठे दूकानदार और सामने खड़े ग्राहक, मैदानों में खेलते बच्चे सारे मच्छरों के दंश का शिकार हो रहे है. जिसके कारण कई तरह की बीमारियों का वे शिकार भी हो रहे हैं.

यह भी पढ़ें:

मधुबनी: अनुमंडल बनने के ढ़ाई दशक बाद भी समस्याओं के मकड़जाल में उलझा है विकास

मलेरिया, कालाजार, डेंगू, चिकनगुनियॉ एवं संक्रमणकारी कई अन्य बिमारियों का लोग शिकार हो रहे हैं. स्वास्थ्य महकमा और सरकार सिर्फ विज्ञापनों के सहारे लोगों को स्वस्थ्य बनाये रखने के मुहिम में लगे हैं. धरातल की सरजमीन पर लोगों को दिन रात हो रही परेशानियों से उन्हें कोई वास्ता नहीं दिख रहा है. खासकर सुबह और शाम में लोगों के लिए रोजमर्रा के कार्यों का संपादन सिरदर्दी का पर्याय बनता जा रहा है.

लोगों की राय में दिन भर यहां-वहां लोग मच्छरदानी लगा कर अथवा मच्छर भगाने वाला क्रीम के सहारे अपना दैनिक काम तो कर नहीं सकते? सरकार को जन समुदाय की इस अहम परेशानी की ओर ध्यान देने की जरुरत बताई जा रही है. ताकि लोग बाग का स्वस्थ्य रक्षण भविष्य की समस्या न बन पाये.

देखें वीडियो: