जनता से पहले भगवान के दरबार में पहुंचे आरएलएसपी नेता माधव आनंद

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : आरएलएसपी के राष्ट्रीय महासचिव माधव आनंद ने आगामी लोकसभा चुनाव में सीट के दावेदारी को लेकर एक तरफ जहां महागठबंधन में रार चल रहा है तो दूसरे तरफ नेता अपनी अपनी दावेदारी ठोकने में लगे है. पूर्वी चंपारण सीट को लेकर प्रत्याशी तो छोड़िये अभी ये भी तय नहीं हो पा रहा है कि कौन पार्टी अपना प्रत्याशी यहां उतारेगा.

पर इन सब के बीच आरएलएसपी नेता माधव आनंद अपने आला कमान के इशारे पर क्षेत्र में उतर गए हैं. माधव आनंद इसके पहले जनता के बीच जाएं. वे पहले भगवान के दरबार में पहुंचकर जीत के लिए मथ्था टेका और मन्नतें मांगी. आनंद ने फिर सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ बुलेट के गड़गड़ाहट आवाज के साथ जनता के बीच निकल पड़े.

 

वहीं मीडिया से मुखातिब होते उन्होंने दावा किया कि बीजेपी के सांसद और भारत सरकार के कृषि मंत्री को आगामी लोकसभा चुनाव में हरा देंगे। उन्होंने कहा कि जो विकास का काम पिछले 25 वर्ष में नहीं हुआ वे पाच वर्ष में करेंगे. चुनाव में हार जीत किसकी होगी वो जनता के हाथ में है. पर इतना तो जरूर है कि आरएलएसपी का मोह पूर्वी चंपारण सीट को लेकर मजबूत है. तभी तो फैसले के पहले पहले उनके प्रत्याशी ताल ठोक दिए है.

सबसे बड़ी बात आपको बता दूं कि इसके पहले माधव आनन्द के प्रचार-प्रसार पर महागठबंधन ने रोक लगाया था. टिकट के लेकर कई बयार भी बहे थे. बावजूद इसके अपना दावा ठोकने के बाद महागठबंधन में विवाद और बढ़ सकता है.

माधव आनंद ने कहा है कि बिहार एनडीए में अभी जो स्थिति बनी हुई है, वह कोई आदर्श स्थिति नहीं है. निश्चित रूप से यह एक चिंता का विषय है और कहीं ना कहीं एनडीए को इसका नुकसान हो रहा है. उन्होंने कहा है कि एनडीए में हो रहे इस विवाद का कारण खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी हैं.

वहीं, आरएलएसपी राष्ट्रीय महासचिव ने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि नीतीश जी कहते हैं कि वो तीन चीज़ों से समझौता नहीं कर सकते क्राइम, अपराध और सांप्रदायिकता. अब हमे कोई ये बताए कि मुजफ्फरपुर बाल गृह कांड, सीतामढ़ी के देंगे, और सृजन घोटाला क्या है? लगता है सुशील मोदी जी ने सभी मामलों में क्लीन चीट दे दिया है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*