एंजल योगा ग्रुप के सदस्यों ने साफ – सफाई को लेकर खूब चलाये कुदाल व झाड़ू

ऐंजल योगा के सदस्यों एवं रग्बी के खिलाड़ियों के द्वारा अभियान चलाकर बड़गांव सूर्य तलाब के सभी घाटों की सफाई की गई

लाइव सिटीज, नालंदा(संतोष कुमार) : नालंदा के बड़गांव सूर्यधाम सनातन धर्म के लोगों के लिये सूर्य के आस्था का महाकेन्द्र है. देश के विभिन्न भागों से काफी संख्या में श्रद्धालु आकर आस्था का महापर्व छठ पूजा में इस धाम पर आकर सूर्य भगवान को अर्घ प्रदान कर अपनी मनोकामना की पूर्ति करते हैं.छठ ही  नहीं प्रत्येक रविवार को भी हजारों की संख्या में श्रद्धालु आकर इस धाम पर सूर्य की उपासना करते हैं. लेकिन इस धाम के प्रति प्रशासनिक लापरवाही के कारण हमेशा ही घाटों पर गंदगी का अम्बार लगा रहता है.

चैती छठ पूजा के बाद फैली गंदगी की साफ सफाई के लिए सोमवार की सुबह ऐंजल योगा के सदस्यों एवं रग्बी के खिलाड़ियों के द्वारा अभियान चलाकर बड़गांव सूर्य तलाब के सभी घाटों की सफाई की गई. ऐंजल योगा टीम के संस्थापक जय सिंह, भाजपा बिहार प्रदेश नेता सुधीर कुमार सफाई अभियान में शामिल होकर बताया कि सूर्य पीठ बड़गांव सूर्य तालाब पर छठ पर्व के मौके पर लाखों की संख्या में श्रद्धालु सूर्य उपासना कर अपने मनोकामना की प्रार्थना सूर्यदेव से करते है.

इस मौके पर मेला पूर्व प्रशासन एवं स्थानीय लोगों के द्वारा साफ सफाई की जाती है. परंतु मेला बाद काफी गंदगी फैल जाती है. जिससे यहां पर प्रत्येक रविवार के दिन आने  वाले श्रद्धालु को कठिनाई होती है. कहा कि इस घाट की साफ सफाई करने से भी काफी सुख की अनुभूति एवं पूण्य कार्य का अवसर मिलता है. एंजल योगा के निदेशक नरेंद्र कुमार उर्फ नारो सिंह ने कहा कि इस धाम की जो धार्मिकमहत्व है काफी महत्वपूर्ण है.

इसी को ध्यान रखकर ऐंजल योगा के सभी सदस्यों ने धाम की साफ सफाई किया है. इन्होंने कहा कि अब इस बार इस धाम पर छठ मेला को लेकर सरकार के द्वारा पांच लाख की राशि भी मुहैया कराया गया, उसके बाबजूद साफ सफाई नही की जाती है, जो काफी दुर्भाग्यपूर्ण है. कहा कि धर्म के नाम पर रुपये का दुरुपयोग की जाती है, इस बार आयी राशि भी किस चीज में खर्च कितना हुआ पता नहीं. इस मौके पर  नरेंद्र उर्फ़ नारो सिंह, मुखिया पप्पू कुमार, सहित सभी ऐंजल योगा एवं रग्बी फुटबॉल के सदस्यों ने अपना योगदान दिया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*