नवगछिया दसवीं की छात्रा पल्लवी ने पूर्वी भारत विज्ञान मेला में ‘बेस्ट मॉडल’ का जीता पुरस्कार

पल्लवी

नवगछिया: ‘कहते हैं ना पूत के पांव पालने में ही दिख जाते हैं’. इस कहावत को पुनः नवगछिया पुलिस जिला निवासी अवध किशोर (नियोजित शिक्षक) व गृहिणी नीतू देवी की बड़ी पुत्री पल्लवी कुमारी ने साबित कर दिया. तुलसीपुर जमुनिया निवासी पल्लवी कुमारी ने पूर्वी भारत विज्ञान मेला में स्टेट बेस्ट मॉडल पुरस्कार जीत का ना सिर्फ इस क्षेत्र का बल्कि इस लड़की ने पूरे राज्य का सिर गौरव से ऊंचा कर दिया है.

पल्लवी ने साबित कर दिया कि अगर कोई परिश्रम कर के आगे बढ़ना चाहे तो उसके लिए संसाधन कोई मायने नहीं रखता है. एक सरकारी विद्यालय की छात्रा ने इसको साबित करके सकारात्मक सोच वाले इंसानो को ऊर्जान्वित कर दिया. आपको बता दूं कि पूर्वी भारत विज्ञान मेला 9 से 13 जनवरी तक कोलकाता में हुआ था.

पल्लवी कुमारी ने सबसे पहले जिला स्तर पर तथा बाद में राज्य स्तर पर अपने प्रोजेक्ट को साबित कर अपनी लगन का परिचय दिया. कोलकाता में पल्लवी ने प्लास्टिक कचरे को इकट्ठा करके सड़क निर्माण सामग्री के लिए इस्तेमाल करने की विधि बताई. उसने बताया कि प्लास्टिक पृथ्वी के लिए काफी खतरनाक होता है.

इसका सही प्रबंधन नहीं किया जाएगा तो पृथ्वी पर जीवन समाप्त हो सकता है. इसलिए इसका उपयोग सड़क निर्माण में किया जाना चाहिए. उन्होंने विद्यालय में कचड़े से सड़क बनाकर भी दिखाया. उसने बताया कि प्लास्टिक से बना सड़क मजबूत होता है.

पल्लवी के इस प्रोजेक्ट से वहां पर मौजूद बड़े-बड़े वैज्ञानिक सहमत हुए. पल्लवी की सफलता के बारे में उसकी विज्ञान की शिक्षिका अपर्णा कुमारी ने बताया कि पल्लवी ने इसके लिए काफी मेहनत की थी. वहीं इसकी सफलता पर समाज सेवी सज्जन भारद्वाज ने कहा कि पल्लवी ने क्षेत्र का नाम रोशन किया है.

उसने इस क्षेत्र की लड़कियों में भी उर्जा भर दिया है कि कैसे सकारात्मक सोच से सफलता हासिल की जाती है. इसके लिए सभी ग्रामवासी पल्लवी को सम्मानित करेंगे. वही तुलसीपुर जमुनिया उच्च विद्यालय के प्रधानाध्यापक नरेंद्र सिंह ने भी कहा कि विद्यालय की ओर से पल्लवी को सम्मानित किया जाएगा. पल्लवी की इस लगन एवं सफलता से उसके अभिभावक काफी खुश हैं.