जहरीली शराब से मौत के बाद अलर्ट पर नवादा पुलिस, ताबड़तोड़ हो रही है रेड

नवादा (पंकज कुमार सिन्हा) : रोहतास में जहरीली शराब से हुई मौत के बाद पूरे सूबे में हडकंप मचा हुआ है. सभी जिलों के थाने में हलचल मची है. इसको लेकर नवादा में सभी थानों को अलर्ट कर दिया गया है. पुलिस अधीक्षक विकास बर्मन के निर्देश के बाद सभी थाना क्षेत्रों में धड़ाधड़ शराब बरामद किया जा रहा है.

रविवार को मिले निर्देश के बाद पुलिस एक्टिवमोड में आ गई और ताबड़तोड़ कई इलाकों में छापेमारी शुरू कर दी. इस दौरान पुलिस ने रजौली, सिरदला, गोविंदपुर, अकबरपुर और कादिरगंज पुलिस ने छापेमारी कर भारी मात्रा में शराब की बरामदगी की है.

कादिरगंज में नैनों कार से शराब ले जाया जा रहा था, उसी दौरान थानाध्यक्ष चंचल कुमार ने छापेमारी कर शराब को बरामद किया, लेकिन कोई गिरफ्तारी नहीं हुई. गोविंदपुर में बाइक की डिक्की में छुपाकर ले जाया जा रहा था शराब जिसे पुलिस ने जब्त किया. साथ ही दो को गिरफ्तार भी किया गया. वहीं रजौली और सिरदला में अवैध शराब भट्टी को ध्वस्त किया गया.

बता दें कि बिहार में शराबंदी के बाद भी धड़ल्ले से शराब की बिक्री हो रही है. अब तो हालात यह है कि शराब की होम डिलीवरी भी हो रही है. नवादा में सड़क किनारे ही देशी कलाली की तरह कारोबार हो रहा है. पुलिस को सूचना दिए जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हो रही है. शहर में इस बात की चर्चा जोरों से है कि शराब के धंधे में कारोबारी और पुलिस मालामाल हो रहे है.

मिर्ज़ापुर में लगातार कई छापेमारी के बाद भी शराब चुलाई का धंधा तेज़ी से चल रहा है. पुलिस अधीक्षक विकास बर्मन कहते हैं कि सभी थानों को अलर्ट कर दिया गया है. जिस थाना क्षेत्रों में शराब का कारोबार पाया जाएगा, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

बता दें कि पिछले दिनों रोहतास में जहरीली शराब से पांच लोगों कि मौत हो गई थी. इस मामले में कुल पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया था. इसके साथ ही DIG शाहाबाद ने SDPO नीरज कुमार से भी जवाब तलब किया था. 3 दिनों में रिपोर्ट सौंपने को कहा गया था. बता दें कि सीएम नीतीश कुमार के मामले पर संज्ञान लेने के बाद बड़े ही तेजी से कार्रवाई हुई थी.

पटना पुलिस मुख्यालय भी एक्टिव हो गया था. ADG मुख्यालय SK Singhal मामले कि देख रेख कर रहे थे. वहीं DGP पीके ठाकुर ने कहा था कि इस मामले में दोषी पाए जाने वालों पर कड़ी कार्रवाई होगी. साथ ही उन्हें मृत्यु दंड तक कि भी सजा ही सकती है.

अभी इस मामले में ताजा अपडेट यह है कि डीएम की अनुशंसा पर उत्पाद विभाग के एक अधिकारी के खिलाफ भी कार्रवाई हुई है. उन्हें निलंबित भी कर दिया गया है . हालांकि उनके नाम कि जानकारी अभी तक नहीं मिल सकी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*