क्रिसमस को लेकर चर्चों को किया जा रहा रंग रोगन

नवादा : प्रभु यीशु का जन्मदिन 25 दिसम्बर को मनाये जाने को लेकर नवादा शहर में स्थित चर्च को रंग रोगन किया जा रहा है. क्रिसमस को लेकर ईसाई परिवारों में ख़ुशी का माहौल देखा जा रहा है. प्रत्येक वर्ष धूम धाम से मनाए जाने वाले क्रिसमस को लेकर जोर शोर से तैयारी की जा रही है.

प्रभु यीशु की माता मरियम के प्रतिमा स्थल के आसपास रंग रोगन किया जा रहा है. गिरिजाघर के पास ही प्रभु यीशु की जन्मस्थली गौशाला का निर्माण भी शुरू कर दिया गया है. जन्मदिन के एक सप्ताह पूर्व से ही क्रिसमस की तैयारी शुरू की जाती है. इस साल भी तैयारी की जा रही है. रविवार को ही क्रिसमस को लेकर चर्च परिसर में बच्चों के बीच खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया.

निर्धन बच्चों के लिए आयोजित खेलकूद प्रतियोगिता में 2000 से अधिक बच्चों ने भाग लिया. पुरे दिन आयोजित खेलकूद प्रतियोगिता में कई प्रकार के खेल आयोजित किये गए. सफल हुए बच्चों के साथ ही रनर बच्चों को भी फादर आनन्द मार्टिन ने पुरस्कार देकर सम्मानित किया.

nawada

फादर ने बताया कि चर्च परिसर में प्रभु यीशु की जन्मस्थली को लेकर गौशाला का निर्माण भी किया जा रहा है. गौशाला को काफी अच्छी तरह से सजाया जा रहा है. इसमें बालक यीशु की प्रतिमा, माता मरियम की प्रतिमा लगायी जायेगी. उन्होंने बताया कि 24 की रात्रि 12 बजे जन्म होने के साथ ही सामूहिक रूप से प्रार्थना की जाएगी. इसके साथ ही 25 दिसम्बर की सुबह में सामूहिक प्रार्थना की जायेगी.

क्रिसमस पर होता है मेला का नज़ारा

25 दिसम्बर को क्रिसमस के मौके पर मेले का नज़ारा होता है. दूसरे समुदाय के लोग भी गिरिजाघर पहुंचकर प्रार्थना करते हैं. गिरिजाघर के बाहर भी लोगों की काफी भीड़ होती है. माता मरियम के पास लोग कैंडिल जलाते हैं. देश दुनिया में शांति की दुआ की जाती है. फादर और अन्य लोग से मिलकर गिरिजाघर आने वाले लोग बधाई देते हैं.

गुलनी, नवादा और रोह में है चर्च

नवादा स्थित कैथोलिक चर्च के साथ ही रोह और गुलनी में भी कैथोलिक चर्च स्थित है. वहां भी क्रिसमस को लेकर गिरिजाघर का रंग रोगन कर क्रिसमस के लिए तैयार किया जा रहा है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*