नेपाल में फंसे हैं नवादा के 46 मजदूर 

नवादा (पंकज कुमार सिन्हा): नवादा के व्यक्ति का कतर में फंसे होने का मामला अभी शांत ही हुआ था कि अब वारिसलीगंज के सौर के 46 मजदूरों के नेपाल में फंसे होने की घटना लोगों को झकझोर रही है. वारसलीगंज के सौर गांव के लगभग 46 मजदूर जिसमें महिला, बच्चे और पुरूष हैं. वे लोग नेपाल के सपतर जिला के पत्थर धारा गांव के ईंट भट्ठा पर लगभग एक साल से फंसे हुए हैं.
नेपाल में फंसे हुए सभी लोग इसी गांव के हैं. काम समाप्त होने के बाद भी घर नहीं लौटने से परिजन चिंतित हैं. इस बात को लेकर गांव के लोगों ने मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, जिलाधिकारी नवादा और एसपी से परिजनों की घर वापसी की गुहार लगाई है. ग्रामीणों के अनुसार गांव के ही भोला राम पिछले वर्ष कार्तिक महीने इन लोगों को मजदूरी कराने के लिए ले गए थे. वहीं दूसरी ओर गांव के ही कुछ मजदूर देश के विभिन्न इलाकों से कार्य कर अपने घर लौट चुके हैं, मगर नेपाल गए मजदूर अभी तक अपने गांव नहीं लौटे हैं जिससे उनकी चिंताएं और भी बढ़ गयी हैं. बता दें कि इस क्षेत्र से हर साल गैर निबंधित मजदूर दलालों और ठेकेदारों के माध्यम से देश के विभिन्न इलाकों में ईंट भट्ठे पर कार्य करने के लिए जाते हैं.
मोटी रकम का प्रलोभन देकर उन्हें गैर कानूनी तरीके से ले जाया जाता है और वहां पहुचने के बाद उनका शोषण किया जाता है. उनके पास भी मजबूरी होती है और अंत में वहां रहकर मजदूरी के सिवा उनके पास कोई और विकल्प नहीं होता है. अब देखना है कि इनकी सफल वापसी के लिए सरकार क्या करती है. ज़िला प्रशासन की ओर से सहायता की उम्मीद लिए परिजन लगातार गुहार लगा रहे हैं. अब देखना यह है कि प्रशासन को इस कार्य में कितनी जल्दी सफलता मिलती है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*