नवादा में दर्दनाक हादसा, बाइक पर गिरी पेड़ की टहनी, घायल युवक की मौत

land dispute, दलित परिवार, beat, police investigation, bihar news, hindi samachar, news, daily news

नवादा : नवादा-जमुई पथ के रोहुआ डाक स्थान के समीप हुए रविवार की एक बाइक पर टहनी के गिर जाने से दो युवक घायल हो गया था. जिसे चिंताजनक स्थिति में नवादा ले जाया गया. जंहा से उसे फिर दोनों को पटना रेफर कर दिया गया. बताया जाता है कि रोहुआ निवासी सुधीर सिंह के 19 वर्षीय पुत्र अमित कुमार और महेंद्र पासवान क्व 19 वर्षीय पुत्र रंजीत कुमार अपने बाइक से पकरीबरावां बाजार आ रहा था. उसी बाइक के आगे-आगे एक कन्टिनर ट्रक जमुई की ओर जा रहा था. इसी दौरान ट्रक एक विशाल पीपल के पेड़ से जा टक्कराई और उस टक्कर में पेड़ का एक विशाल टहनी उस बाइक सवार पे जा गिरा. जिसके दोनों युवक गंभीर रूप से घायल हो गया था. आनन-फानन में दोनों को इलाज के लिये ले जाया गया. इलाज के कम रविवार के ही रात्री अमित की मौत हो गई. मौत की खबर सुनते ही परिवार में कन्द्रन शुरु हो गई. इस कन्द्रन से पूरे गांव में मातमी सन्नाटा पसर गया.

घटना की जानकारी मिलने पर पंहुचे थाना प्रभारी व सीओ
घटना की जानकारी मिलने के बाद थाना प्रभारी संजय कुमार,एस आई दीपक कुमार अपने दल-बल के साथ एवम सीओ राजेश रंजन घटनास्थल पर पंहुच कर मृतक के परिवार से मिलकर उन्हें सांत्वना दी. इसके साथ ही सीओ ने मृतक की मां संतोषी देवी 20 हजार की नगद राशि दिया. इसके साथ ही अन्य पारिवारिक लाभ भी दिए जाने का आश्वासन दिया. इस आस्वाशन के बाद पुलिस ने लोगों को समझा-बुझाकर शव को पोस्टमार्टम के लिए नवादा भेज दिया.

यह भी पढ़ें :

नवादा में अधेड़ की पीट-पीटकर हत्या, छानबीन में जुटी है पुलिस

पूरे परिवार का लालन-पालन का एक मात्र सहारा था अमित :
मृतक की मां संतोषी देवी का रो-रो कर बुरा हाल था. उसे अपने पति से भी ज्यादा भरोसा अपने पुत्र पर था. क्योंकि उसका पति बस में खलासी था और वह बहुत ही कम घर आता था. घर में जरूरत के अनुसार वह कमा भी नहीं पाता था. जिसके कारण घर कु माली हालत बद से बदतर हो गई थी. घर की हालत को देख उसका मृतक पुत्र लगभग 4 वर्ष पूर्व वह कोलकाता के किसी एक निजी कंपनी में काम करता था. और अपने पूरे परिवार के भरण-पोषण करता था. मृतक अपने घर में कुछ काम कराने के लिए पिछले सप्ताह ही अपना घर आया था.

भाई-बहन का भी रो-रो के हुआ बुरा हाल
अमित चार भाई-बहनों में सबसे बड़ा था. अमित के बाद बहन निशा 11 वर्ष, अंशु 11 और भाई छोटु 8 वर्ष का था. इनमे बड़ी बहन निशा बार-बार अपने भाई के शव के पास जाता और लिपट-लिपट कर रोती और बेहोश ही जाती बेटी की देख मां भी दहाड़ मार-मार कर रोती बेहोश होती नजारा को देख अन्य छोटे भाई-बहन भी रोती. जिसे देख सभी के आंखों मे आंसू छलक जाती. शुभचिंतक उन्हें समझाने का प्रयास करते. इस घटना से पूरे गांव में मातमी सन्नाटा छा गया.

घटना की खबर सुनकर पंहुचे जनप्रतिनिधि
घटना की जानकारी मिलने के बाद रालोसपा के प्रखंड अध्यक्ष राजेश कुमार, भाजपा के प्रखंड अध्यक्ष मुकेश कुमार सिंह, जदयू नेता रामप्रवेश सिंह, डुमरावा मुखिया प्रतिनिधि मुकेश सिंह सहित कई अन्य मिरतक के परिवार से मिलकर उन्हें सांत्वना दिया. और सभी सरकारी लाभ दिए जाने का आश्वासन भी दिया. इसके साथ ही इन नेताओं ने जिला पदाधिकारी से नवादा-जमुई पथ के किनारे वैसे सभी पेड़ो की छटाई करवाने की मांग की जो पथ की ओर झुक गई है. इसके पहले भी कई घटना हो चुकी है. झुकी हुई टहनी पेड़ों से टक्कारने की हमेशा भय बनी रहती है.

देखें वीडियो :

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*