मनरेगा बनी लूट की योजना, पदाधिकारी मौन

मनरेगा, loot, scheme, nawada news, hindi news, bihar hindi news, samachar, news, daily news

नवादा : जिले के अकबरपुर प्रखंड के विभिन्न पंचायतों मे इन दिनों मनरेगा में जमकर लूट खसोट जारी है. जिससे मजदूरों को काम नहीं मिल रहा है और उनके समक्ष भूखमरी की समस्या उत्पन्न हो गयी है. ऐसी भी बात नहीं है कि मनरेगा में कार्यरत पीओ, जेई, रोजगार सेवक, पीटीए को इस बारे मे जानकारी नहीं है. जानकारी के वावजूद भी कोई भी पदाधिकारी इसे रोक पाने मे सफल नही है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रखंड के कुलना पंचायत में मशीनों से कार्य कराये जा रहे है. ग्रामीणों ने बताया कि जिन योजनाओं मे कार्य कराना है. उन योजनाओं मे दिन के बजाय रात में मशीन चलते है और फिर सुबह उसी योजना में मजदूरों को लगा दिया जाता है. अकबरपुर प्रखंड में अगर मनरेगा योजना की जांच की गई तो कई के गर्दन फंस सकती है.

कैसे होता है मशीनों से काम
मुखिया पीओ से मिलकर पीटीए से प्राक्कलन तैयार करते है. जेई योजनाओं का टीएस करते है. इतना होने के बाद फिर शुरु होता है मशीनों से कार्य करने का सिलसिला जिन योजनाओं की स्वीकृति मिल जाती है उन योजनाओं मे सुबह के बजाय रात मे मशीन से कार्य कराया जाता है. अगर कोइ व्यक्ति कराये जा रही योजना की शिकायत पीओ से करता है तो उसको यह कहा जाता है कि यह योजना मनरेगा से नहीं किसी अन्य मद से कराया जा रहा है.

यह भी पढ़ें:

नवादा में दर्दनाक हादसा, बाइक पर गिरी पेड़ की टहनी, घायल युवक की मौत

मनरेगा मे कैसे होता है खेल
प्रखंड मे जबसे पीओ चंद्रशेखर आजाद और जेई सुनील कुमार ने अकबरपुर मे कार्यभार संभाला है तबसे मनरेगा में काफी अनियमितता बरती जा रही है. इसी प्रकार की स्थिति प्रखंड के कुलना पंचायत में देखी जा रही है. जहां भूमइ गांव के रामसागर आहर की मरम्मती कार्य जिसका योजना कोड 058002015/डब्ल्यू सी/ 20240425 है. योजना का प्राक्कलन 12/04/18 को बनाया गया. जिसकी प्राक्कलित राशि 6 लाख 75 हजार 500 रुपये है. जिसमे 7 मई से 20 मई तक 90 मजदूरों का मास्टर निकालकर 1 लाख 80 हजार 90 रुपये का भुगतान भी कर दिया गया. लेकिन योजना मे जिन मजदूरों का नाम है वास्तविक मे उन लोगों ने अबतक किसी भी योजना मे कार्य नहीं किया है.

अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि जब योजना मे मजदूरों ने कार्य नही किया तो राशि का किया हुआ और मास्टर राल मे डाले गये मजदूरों के नाम पर राशि किन लोगों ने बंदरबांट किया है. इस खेल मे पीओ, जेई, पीटीए, पीआरएस की भूमिका अहम है. अगर योजनाओं की जांच की गई तो पदाधिकारियों की गर्दन फंसनी तय मानी जा रही है. भाजयुमो के प्रखंड उपाध्यक्ष आलोक कुमार ने कुलना पंचायत में मनरेगा योजना की जांच की मांग की है.

क्या कहते है पीओ
पीओ चंद्रशेखर आजाद ने बताया कि जैसे जैसे जानकारी मिल रही संबंधित पंचयात के पीआरएस से स्पष्टीकरण की मांग की जा रही है. पीआरएस द्वारा संतुष्ट जबाव नहीं मिलने पर वरीय पदाधिकारियों को लिखा जायेगा.

देखें वीडियो :

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*