नवादा पुलिस ने 12 घंटे में सुलझा दी हत्याकांड की गुत्थी, प्रेम के चक्कर में दोस्त ही बना हत्यारा

लाइव सिटीज, नवादा (पंकज कुमार सिन्हा): नवादा पुलिस ने मंगलवार को वारसलीगंज में सुबह 7 बजे हुई हत्याकांड की गुत्थी को  घंटे के अंदर सुलझाने में कामयाबी प्राप्त की है. इस घटना में दोस्त ही प्रेम के चक्कर में हत्यारा बन गया. नवादा के पुलिस अधीक्षक विकास बर्मन ने बुधवार को नगर थाना में एक प्रेस वार्ता आयोजित कर इसकी जानकारी दी. उन्होंने बताया कि 17 अप्रैल को वारसलीगंज पुलिस को चीनी मिल के समीप एक व्यक्ति की लाश बरामद होने की सूचना मिली. जिसके आधार पर वारसलीगंज पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए लाश को कब्जे में किया था.

घटना से विचलित बाजार के व्यवसाइयों ने लाश की पहचान आशीष कुमार उर्फ मोनू के रूप में की थी, जो वारसलीगंज का व्यवसायिक था. घटना के बाद वारसलीगंज पूरी तरह हंगामे की भेंट चढ़ गया. तरह-तरह की चर्चाएं होने लगी थी. इस घटना में मृतक आशीष का मित्र विशाल कुमार और आकाश कुमार की भूमिका भी काफी संदिग्ध प्रतीत हुई. जिससे नाटकीय ढंग से सुलझाने में सफलता मिली. पुलिस अधीक्षक विकास वर्मन ने बताया कि मृतक आशीष का मित्र विशाल कुमार खुद को इस घटना में जख्मी बताते हुए वारिसलीगंज अस्पताल में भर्ती हुआ तथा बाद में नवादा अस्पताल में इलाज कराया.

जख्मी विशाल के विरोधाभाषी बयान के कारण पुलिस को उसपर शक हुआ. उन्होंने बताया कि इस घटना में मृतक आशीष कुमार उर्फ मोनू की पत्नी पूजा कुमारी के साथ विशाल कुमार का अवैध संबंध था. मोबाइल चैटिंग में भी ऐसा देखा गया. इसी संबंध के कारण विशाल ने आशीष की हत्या कर दी. एसपी ने बताया कि घटना की अंजाम देने के लिए विशाल ने अपने दुकान के स्टाफ आकाश कुमार को इस कार्य में सहयोग के लिए ₹20000 में तय किया था. जिसमें विशाल ने आकाश को ₹10000 का एक विवो मोबाइल उपलब्ध कराया था. तथा बाद में ₹10000 देने की बात कही थी.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि नवादा डीआई यू की टीम तथा पकरीबरमा एसडीपीओ श्रीप्रकाश सिंह के साथ-साथ वारसलीगंज थाना अध्यक्ष मनोज कुमार और उनकी टीम के द्वारा इस घटना का उद्भेदन जल्द से जल्द किया गया. पुलिस ने घटना से जुड़े सभी साक्ष्यों को जप्त कर लिया है. जिसमें खून सनी मिट्टी ,जिस ईट से आशीष की हत्या की गई थी वह खून सनी ईंट ,3 चाकू तथा वेट लगा एक दूसरी चाकू, हरा रंग का हवाई चप्पल , खून सनी जींस पैंट, हरे रंग का टीशर्ट खून खून लगा, खून लगा जींस पैंट और स्टील का चाकू भी बरामद किया है.

सीएम नीतीश कुमार ने कॉम्फेड के स्थापना दिवस कार्यक्रम में की शिरकत, 144.67 करोड़ रुपये की दी सौगात…

एफएसएल की टीम द्वारा इस मामले में मृतक की खून और घायल विशाल के शरीर पर लगे खून की मिलावट कर पाया गया तो इसमें विशाल का हाथ सामने आया। पुलिस में हीरो साइन मोटरसाइकिल भी जप्त किया है, जिससे विशाल अपने सहयोगी आकाश के साथ आशीष को वारसलीगंज चीनी मिल के किनारे हत्या के लिए ले गया था. SP ने बताया कि घटना की जांच पर बढ़ते दबाव को देखते हुए विशाल ने खुद ही कबूल किया कि आशीष की पत्नी के साथ अवैध संबंध में ही आशीष की हत्या किया हूं.

अपने स्वीकारोक्ति बयान में विशाल ने बताया कि इससे पूर्व भी दो बार आशीष की हत्या का प्रयास किया गया था परंतु दिल कबूल नहीं किया. विशाल अपने दोस्त आशीष की हत्या के बाद पूजा के विधवा होने पर शादी करने का इरादा बनाये हुए था. पुलिस ने जांच के लिए मृतक आशीष का मोबाइल, साथ साथ अभियुक्त आकाश कुमार , अभियुक्त विशाल कुमार मृतक का Micromax Android मोबाइल तथा मृतक की पत्नी पूजा कुमारी का मोबाइल भी कब्जे में लिया है. एसपी ने इस घटना में शामिल सभी पुलिसकर्मियों को पुरस्कृत करने की घोषणा की है. प्रेस वार्ता के दौरान पकरी बरमा एसडीपीओ श्रीप्रकाश सिंह भी मौजूद थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*