“क्या डीजीपी का डंडा संविधान से ऊपर है!” सोशल मीडिया पर सरकार के खिलाफ लिखने वालों पर कार्रवाई के आदेश का छात्र नेताओं ने किया विरोध

सोशल मीडिया पर सरकार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बुधवार को पटना के कारगिल चौक पर जन अधिकार छात्र परिषद के नेताओं ने विरोध-प्रदर्शन किया. उन्होंने सोशल मीडिया पर सरकार के खिलाफ लिखने वालों पर कार्रवाई से जुड़े पुलिस मुख्यालय के नोटिफिकेशन के खिलाफ नाराजगी जतायी. साथ ही छात्र नेताओं ने सीएम के खिलाफ नारेबाजी की. छात्र परिषद अध्यक्ष आजाद चांद ने बताया कि बिहार सरकार छात्र और युवाओं को उनके मार्ग से भटका कर अपराध के रास्ते पर ले जाना चाहती है. पुलिस प्रशासन अपना काम भूल चुका है. उन्होंने कहा कि क्या डीजीपी का डंडा लोकतंत्र, संविधान से ऊपर है?

सरकार की नाकामियों के खिलाफ आवाज उठाने का है अधिकार : आजाद
आज़ाद चांद ने कहा कि सरकार की नाकामियों के खिलाफ आवाज उठाने का उन्हें अधिकार है. वे अपने लोकतांत्रिक मूल्यों का हनन नहीं होने देंगे. वे इस नोटिफिकेशन के ख़िलाफ़ उच्च न्यायालय में रिट पिटीशन दाखिल करेंगे. वहीं, पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष मनीष यादव ने कहा कि बोलने और विरोध करने का अधिकार संविधान से मिला है. मुख्यमंत्री अधिकारों को छीनने की कोशिश न करें. छात्रों और युवाओं का आक्रोश, उन्हें सत्ता से गिरा देगा.



सरकार अगर अधिकारों से करेगी वंचित, तो होगा विरोध : पप्पू
वहीं, जाप के राष्ट्रीय महासचिव राजेश रंजन पप्पू ने कहा कि संविधान वाक और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देता है. अगर सरकार अधिकारों से वंचित रखने का प्रयास करेगी तो उसे विरोध का सामना करना पड़ेगा. इस दौरान गौतम आनंद, आमिर राजा, फैज़ अख़्तर, रोशन शर्मा, सन्नी सिंह, नीतीश कुमार, दीपंकर प्रकाश, दीपक कुमार सहित बड़ी संख्या में छात्रों ने विरोध प्रदर्शन में भाग लिया.