प्रकाश उत्सव : बदला-बदला दिखेगा पटना साहिब

पटना: (प्रवीण कांत) 5 जनवरी 2017 में होने वाले गुरु गोविन्द सिंह के 350वें प्रकाश उत्सव को लेकर पटना साहिब स्टेशन,  गुरु गोविन्द सिंह अस्पताल, पटना घाट समेत मंगल तालाब का स्वरूप बदला जा रहा है. राज्य सरकार पटना साहिब को धार्मिक पर्यटक स्थल के रूप में बदलाव के लिए सहयोग दे रही है. जिससे देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालु बिहार के धार्मिक स्थलों की चर्चा करें. इसके लिए सरकार के पर्यटक विभाग से लेकर प्रशासनिक विभाग पूरे जोर- शोर से जुटा है.

पर्यटकों को लुभाने और इतिहास की जानकारी देने के लिए पटना सिटी के मंगल तालाब पर लेजर लाइट लगायी जा रही है. जिसमें लेजर लाइट शो के जरिये गुरु गोविन्द सिह की जीवनी दिखाई जाएगी. देश विदेश से आने वाले नए पीढ़ी के श्रद्धालुओं को भी लेजर शो के जरिये गुरु गोविन्द सिह महाराज की जीवन संबंधी अहम जानकारी मिलेगी.vlcsnap-2016-12-06-14h25m46s1

पटना साहिब स्टेशन को नया लुक दिया जा रहा है. जिससे पटना साहिब स्टेशन पहुंचते ही यात्रियों को ये एहसास हो जाए कि वो गुरु महाराज की जन्म स्थली पर पहुंच गए.vlcsnap-2016-12-06-14h27m38s94

गुरु गोविन्द सिंह अस्पताल जो बदहाली का शिकार था उसकी रूप-रेखा भी बदली जा रही है. मरीज इस अस्पताल में आने से डरते थे. अस्पताल परिसर जुआरियों, शराबी और असामाजिक लोगों का अड्डा बना हुआ था. आज उस अस्पताल को करोडों रूपये की लागत से भवन का रीमॉडिफिकेशन किया जा रहा है. अस्पताल को नया लुक दिया गया है. परिसर में फूल-पौधों के साथ-साथ लाइटिंग वाले पानी के फव्वारे लगाए गए हैं. इमरजेंसी सेवा भी बहाल करने के लिए आधुनिक अपहरण लगाए जा रहे हैं. मरीजों के लिए 225 बेड भी लगाए जा रहे हैं. जहां पर्यटकों को सुविधा मिलेगी ही और अब इसका पूरा फायदा स्थानीय मरीजों को भी मिलेगा.vlcsnap-2016-12-06-14h25m55s97

वहीं ऐतिहासिक मंडी मारूफगंज से जुड़ा अंग्रेजों के ज़माने में बनाया गया पटना घाट स्टेशन जिसका अस्तित्व ख़त्म हो गया था, उसे एक बार फिर सुर्खियों में आने का मौका मिला है. पटना घाट स्टेशन को दुरस्त कर नई रेलवे लाइन बिछाने का काम भी तेजी से किया जा रहा है. साथ ही प्लेटफार्म और टिकट घर का निर्माण भी किया जा रहा है. जहां आरक्षण टिकट भी उपलब्ध होगा.vlcsnap-2016-12-06-14h24m29s253

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*