प्रकाशोत्सव : मरीन ड्राइव बना राजधानी का कंगन घाट

पटना : राजधानी में गंगा के किनारे मरीन ड्राइव बनाने की योजना भले ही ठंढे  बस्ते में पड़ गयी पर इसबार 350वें प्रकाश उत्सव को लेकर पटना साहिब का कंगन घाट इन दिनों मरीन ड्राइव बन गया है. पर्यटन विभाग की ओर से श्रधालुओं के लिए बनाया गया कंगन घाट पर टेन्ट सिटी और गंगा के किनारे बनी पक्की सड़कें श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है.

कंगन घाट पर साफ-सफाई और गंगा की लहरों पर घूमने के लिए स्टीमर-नाव श्रद्धालुओं को खूब पसंद आ रही है. इस व्यवस्था के लिए पर्यटक(श्रद्धालु) बिहार सरकार की तारीफ करते थक नहीं रहे है. गंगा किनारे नास्ता की दूकान, गुपचुप की दुकान, भेलपुरी और नारंगी जूस की दूकान खुलने से श्रद्धालु खाने और जूस पिने का भी मजा ले रहे हैं. साथ गंगा में नाव की सैर करने का भी पूरा लुप्त उठा रहे हैं. सुरक्षा को लेकर सड़क से लेकर गंगा किनारे तक महिला और पुरुष पुलिस बल भी तैनात हैं.  वहीं गंगा में भी एनडीआरएफ़ की टीमें मौजूद हैं और नाव पर सवारी करने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा में लगे हैं. किनारों पर बैठ कर गंगा का नजारा देखने के लिए सीढी नुमा चौताल भी बनाया गया है.

श्रद्धालु नाव पर भी वाहे गुरु का नारा लगा गंगा की लहरों पर सैर करने का आनन्द ले रहे हैं. पर्यटकों के साथ स्थानीय लोग कि माने तो कंगन घाट पर ही मुंबई और गोवा की तरह मरीन ड्राइव का आनन्द ले रहे हैं. पर्यटकों का कहना था की समाचारों में 350वें गुरु पर्व में पटना साहिब में पूरी व्यवस्था की बात सुनने को मिल रहा थी.  बिहार में क्राइम की खबरें सुनकर उन्हें यहां आने में सोचना पड़ रहा था पर इसबार बिहार आने पर सरकार की ओर से की गई सुरक्षा देख कर बिहार में बदलाब दिख रहा है. गुरु पर्व में पटना साहिब शहर मिनी पंजाब बन गया है. कंगन घाट का बदला नजारा देख कर लोग सेल्फी भी लेते नजर आ रहे हैं.

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*