पटना सिटी में बड़ी लापरवाही, नाले में समा गया 5 साल का मासूम

पटना सिटी : खाजेकलां के टिकिया टोली में बुधवार की रात पांच वर्ष के गौरव की नाले में गिरकर डूबने से मौत हो गई. वह घर का इकलौता चिराग था. मालसलामी का रहनेवाला गौरव अपने परिजनों के साथ रिश्तेदार प्रकाश कुमार के यहां श्राद्धकर्म में टिकिया टोली आया था. 

करीब पौने 10 बजे रात रिश्तेदार के घर के पास नाले में उसका पैर फिसला और गिर गया. स्थानीय लोगों ने खोजने की कोशिश की, लेकिन बच्चे का पता नहीं चला. आनन-फानन निगमकर्मियों को सूचना दी गई. जेसीबी से सड़क को काटकर नाले की उड़ाही की गयी, इसके बाद रात करीब सवा 11 बजे बच्चे को निकाला गया. उसे पास में ही गुरु गोविंद सिंह अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

45 मिनट बाद मिला था चप्पल

नाले में बच्चे के गिरने के बाद स्थानीय लोगों ने उसे खोजने का प्रयास किया. चार-पांच स्थानीय लड़के नाले में उतरे, लेकिन कड़ी मशक्कत के बाद भी बच्चे का पता नहीं चल सका. करीब 45 मिनट के बाद बच्चे का चप्पल मिला। इसके बाद जेसीबी को लगाया गया. 

आगजनी और जेसीबी में तोड़फोड़

बच्चे को नाले से निकालने में हो रही देरी पर परिजनों और स्थानीय लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा था. लोगों ने निगमकर्मियों को फोन कर एक और जेसीबी लाने की मांग की. काफी देर बाद दूसरी जेसीबी पहुंची तो लोगों का गुस्सा भड़क उठा.लोगों ने जेसीबी में तोड़फोड़ शुरू कर दी. बॉली मोड के पास अशोकराजपथ को जाम कर दिया.आगजनी करने लगे. लोगों का गुस्सा देख जेसीबी का ड्राइवर भाग गया. 

बच्चे का चल रहा था इलाज

मालसलामी के नखासपिंड के रहने वाले राजू कुमार उर्फ मंगल का बेटा गौरव पेट की गंभीर बीमारी से जूझ रहा था. उसकी दादी ने बताया कि पोता सबका लाड़ला था. लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था.

पांच वार्ड का पानी नाले में गिरता है

स्थानीय लोगों ने बताया कि नाला काफी बड़ा है. पांच वार्ड का पानी इसी नाले में गिरता है जो आगे चलकर मेहंदीगंज जल्ला में मिल जाता है. लोगों का कहना था कि नाले को पूरी तरह ढंका नहीं गया है. बीच-बीच में कई जगहों पर स्लैब हट गया है. लोग मजबूरी में इसे पार करते हैं.

घर-परिवार में मचा कोहराम

श्राद्धकर्म में जुटे घर-परिवार में घटना के बाद कोहराम मच गया. कौन जानता था कि हंसते-खेलते रहनेवाला गौरव सबको छोड़कर चला जाएगा। महिलाओं की आंख की आंसू थमने का नाम नहीं ले रही थी.

यह भी पढ़ें-  IAS संजीव कुमार सिन्हा बने BSSC के नये अध्यक्ष

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*