पटना AIIMS मे काॅक्लियर इम्प्लांट होना बच्चो के लिए वरदान है : निदेशक  

पटना/फुलवारीशरीफ : पटना एम्स के निदेशक डाॅ.पीके सिंह ने कहा कि एम्स में काॅक्लियर इम्प्लांट होना बच्चों के लिए वरदान है. विशेषकर एम्स में कम खर्च में काॅक्लियर इम्प्लांट शुरू हो गया है. इस के लिए भारत और राज्य सरकार भी सहायता देती है और ईएनटी विभाग की इस उपलब्धि की सराहना भी की.

शनिवार को पटना एम्स के ईएनटी विभाग में गत दो वर्षाें में 50 सफल काॅक्लियर इम्प्लांट होने के अवसर पर आयोजित एक सीएमई का उदघाटन करते समय यह बाते कहीं. उन्होने कहा कि पटना एम्स का मकसद है कि कम खर्च में बेहतर और सस्ता इलाज हो. बी जे मेडिकल काॅलेज, अहमदाबाद के डाॅ. राजेश ने काॅक्लियर इम्प्लांट की बारीकियों की विस्तृत जानकारी दी.

एम्स पटना की ईएनटी विभागाध्यक्ष डाॅ. क्रांति भावना ने कहा कि एम्स पटना में काॅक्लियर इम्प्लांट की सुविधा मई 2014 से शुरू हुई थी. तब से अब तक यहां 50 काॅक्लियर इम्प्लांट हो चुके हैं. डॉ. भावना ने बताया कि काॅक्लियर इम्प्लांट के लिए केंद्र सरकार की एडिप स्कीम, बिहार सरकार और पीएम रिलीफ फंड से मदद मिलती है. लिहाजा सर्जरी में मरीज के परिवार को बहुत कम खर्च ही वहन करना पड़ता है. उन्होंने बताया कि हमारा लक्ष्य है कि काॅक्लियर इम्प्लांट के जरिए बहरेपन को पूरी तरह खत्म किया जाए. साथ ही विभाग में अपना आॅडियोलाजी एवं स्पीच सेंटर स्थापित किया गया जाए ताकि मरीजों को इसके लिए बाहर नहीं जाना पड़े.

आईवाईजे मुंबई के निदेशक डाॅ. ए के सिन्हा, पीएमसीएच के ईएनटी विभागाध्यक्ष डाॅ चंद्रशेखर और वरिष्ठ ईएनटी सर्जन डाॅ. बृजलाल ने भी अपने-अपने विचार रखे.  इस मौके पर 02 साल से 15 साल की उम्र तक के लगभग 30 ऐसे बच्चे भी आए थे, जिनका काॅक्लियर इम्पलांट एम्स पटना में हुआ था. इन सभी को छोटे-छोटे उपहार दिए गए. इस मौके पर एम्स पटना के चिकित्सक हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. संजीव कुमार, हडडी रोग विशेषज्ञ डॉ. सुदीप कुमार समेत मेडिकल छात्र भी मौजूद थे.

क्या है काॅक्लियर इम्प्लांट सर्जरी :

यह एक जटिल सर्जरी है, जो बोलने व सुनने में अक्षम बच्चों के लिए वरदान है. इसमें सर्जरी द्वारा एक इप्लांट लगाया जाता है और फिर कुछ  महीने तक स्पीच प्रशिक्षण दिया जाता है, जिसके बाद बच्चे बहरेपन से निजात पा सकते हैं. यह सर्जरी एक से 15 साल तक के बच्चों में ही सफल होती है.

अजीत की रिपोर्ट

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*