बार कोडिंग से होगी कॉपियों की जांच

पटना : इस बार मैट्रिक और इंटर की परीक्षा को लेकर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने विशेष तैयारी की है. 2 जनवरी से मैट्रिक का परीक्षा फाॅर्म भराना शुरू हो गया है. परीक्षा 1 मार्च से होगी. परीक्षा के बाद कॉपी मूल्यांकन की तैयारी भी बिहार बोर्ड अभी से ही कर रहा है.

इस बार परीक्षा बाद ही उत्तर पुस्तिकाओं की बार कोडिंग की जायेगी. बोर्ड ऑफिस इस बार कोडिंग के लिये निजी एजेंसी की मदद ले रही है. बोर्ड की मानें तो बार कोडिंग समय से संपन्न हो जाये, इसके लिये एजेंसी को लगाया जायेगा. उत्तर पुस्तिका के लिए अलग  बार कोड होगा़.उत्तर पुस्तिका की स्कैनिंग भी जिला  में ही किया जाएगा.

बोर्ड कर्मचारियों के अनुसार इंटर और मैट्रिक मिलाकर लगभग 30 लाख परीक्षार्थी होंगे. ऐसे में सभी उत्तर पुस्तिकाओं  को बोर्ड ऑफिस में लाकर कोडिंग करना मुश्किल होगा. इस कारण कोडिंग का काम जिला मुख्यालय दो दिया जायेगा. इसके लिए डीएम के संरक्षण में जगह तय कर सारे उत्तर पुस्तिकाओं की स्कैनिंग की जायेगी.

बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि किस मूल्यांकन केंद्र पर किस जिले की उत्तर पुस्तिका जायेगी, यह ऑनलाइन ही तय होगा. किसी भी मूल्यांकन केंद्र को इस बार पता नहीं होगा कि कहां की उत्तर पुस्तिका किस मूल्यांकन केंद्र पर गयी है. सारे उत्तर पुस्तिका बार काेडिंग के साथ एक ही सर्वर में रखी जायेगी. इस सर्वर से सारे मूल्यांकन केंद्र जुड़े होंगे. सर्वर से ही संख्या के अनुसार उत्तर पुस्तिकाओं की सॉफ्ट कॉपी भेजा जायेगा. साथ ही उन्होंने बताया कि मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में काफी संख्या में परीक्षार्थी होंगे. इस कारण बार कोडिंग का काम एजेंसी को दिया जायेगा. बार कोडिंग में किसी तरह की गड़बड़ियां न हो, इसके लिये पूरा इंतजाम किया जा रहा है.

 

यह भी पढ़ें : फिर एसएसपी ने की अपील, बिहार की गरिमा का सवाल है

बिहार बोर्ड : तस्वीरों में देखें, अब हो रही कॉपियों की डिजिटल जांच

 

About Abhishek Anand 140 Articles
Abhishek Anand

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*