बिहार में बढ़ेगा फिल्म कल्चर, बस अड्डों पर भी बने थियेटर : शिवचंद्र राम

पटना : कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग के मंत्री शिवचंद्र राम ने कहा है कि बिहार सरकार राज्‍य में फिल्‍म कल्‍चर लाने के लिए बस अड्डों पर भी थियेटर निर्माण की जरुरत बताई है. उन्होंने कहा कि सरकार राज्य में फिल्‍मों के विकास के लिए जल्‍दी ही भारत की सबसे उन्‍नत फिल्‍म नीति सामने लाएगी, जिसके त‍हत हम बाहर से आने वाले फिल्‍म मेकरों को सम्‍मान और सुरक्षा उपलब्‍ध कराएंगे.

शुक्रवार को फिल्‍म फे‍स्टिवल के उदघाटन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद शिवचंद्र राम ने कहा कि फिल्‍में हमारी समाज, सोच, सभ्‍यता और संस्‍कृति को दर्शाता है. इसलिए मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्‍व वाली सरकार ने सात निश्‍चय के साथ – साथ राज्‍य में फिल्‍मों के विकास को महत्‍व दिया है. इसी का तकाजा है कि राजगीर में फिल्‍म सिटी के लिए 20 एकड़ जमीन ले लिया गया है.

pff-shiv-chnadra-raam

उन्होंने कहा कि बिहार की मिट्टी हमेशा से सोना उगलती आई, मगर कुछ लोगों ने राजनीतिक कारणों से बिहार की छवि को पर सवाल उठाए. हमने केंद्र सरकार से भी बिहार में सेंसर बोर्ड केे दफ्तर के लिए चिट्ठी लिखी है.

मंत्री ने बस अड्डों पर थिएटर निर्माण की जरुरत पर कहा कि इससे एक-दो घंट बसों का इंतजार करने वाले यात्रियों को ना सिर्फ मनोरंजन मिलेगा, फिल्‍म की समझ रखने वाले लोगों केे समझ का भी विकास होगा.

 

इससे पहले बिहार राज्‍य फिल्‍म विकास निगम और कला संस्‍कृति विभाग, बिहार सरकार के संयुक्‍त तत्‍वावधान में आयोजित आठ दिवसीय पटना फिल्‍म फे‍स्टिवल-2016 का शुक्रवार को राजधानी के रीजेंट सिनेमा में भव्य शुभारंभ हुआ. उद्धाटन कार्यक्रम में बिहार राज्‍य फिल्‍म विकास एवं वित्त निगम की विशेष कार्य पदाधिकारी शांति व्रत, गुटरूगूं फेम अभिनेता के के गोस्‍वामी, अभिनेता विनीत कुमार, अभिनेता क्रांति प्रकाश झा, फिल्‍म समीक्षक विनोद अनुपम, फिल्‍म फेस्टिवल के संयोजक कुमार रविकांत, मीडिया प्रभारी रंजन सिन्‍हा इत्यादि भी मौजूद रहे.

यह भी पढ़ें :

बिहार में भी फिल्म बनाने की सब सुविधाएं मौजूद : इम्तियाज अली

Patna Film Festival-2016 का भव्‍य शुभारंभ , मंत्री बोले-राज्य सरकार फिल्मों के विकास के लिए प्रतिबद्ध

बढ़ जाती है बिहार में पैदा होने वालों की बुद्धि : इम्तियाज अली

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*