तेजस्वी का तंज : मोदी जी ‘परम प्रिय, बिरयानी मित्र’ से बात कर कुलभूषण को छुड़ाइए

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कुलभूषण जाधव का मुद्दा उठाया है. तेजस्वी ने कहा कि मोदीजी को अपने “परम प्रिय, बिरयानी मित्र” नवाज़ शरीफ़ से कुलभूषण जाधव को छुड़ाने के बारे में गंभीरता से बात करनी चाहिए. उनके अज़ीज़ मित्र जो हैं.

वहीं इस ट्वीट को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने भी शेयर किया है. उन्होंने दोबारा से ट्वीट करते हुए लिखा है ‘परम प्रिय बिरयानी मित्र’. इसका सीधा संबंध पीएम मोदी और नवाज शरीफ की दोस्ती को लेकर है.  पीएम मोदी हमेशा से भारत और पाकिस्तान के रिश्तों को सौहार्दपूर्ण बनाने के लिए पहल करते रहे हैं. 

बता दें कि कथित जासूसी के मामले में कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान की अदालत ने फांसी की सजा सुना दी है. लेकिन पाकिस्तान के इस फैसले के बाद भारत में लोगों में आक्रोश फ़ैल गया. सोशल मीडिया, सड़क से लेकर संसद तक कुलभूषण को इंसाफ दिलाने के लिए आवाज बुलंद होने लगे हैं. इस आलोचना के बाद पाकिस्तान ने कुलभूषण को अपनी सफाई पेश करने के लिए सिर्फ 60 दिनों कि मोहलत दी है. 

 बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के अलावा अभिनेता ऋषि कपूर, सिंगर अभिजीत भट्टाचार्य, पूर्व पाकिस्तानी गायक अदनान सामी, ऐक्टर रणदीप हुड्डा के बाद अब बॉलिवुड की तेज-तर्रार और बेबाक अभिनेत्री रवीना टंडन ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को जासूस बताकर मौत की सजा देने के पाकिस्तान के फैसले पर अपना गुस्सा जताते हुए सीधा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल पूछा है कि क्या हम सिर्फ बैठकर जाधव को मरते हुए देखेंगे?….

गौरतलब हो कि कुलभूषण जाधव पर चल रहा यह मुकदमा आर्मी की फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल के जरिये चलाया गया, जिसका मतलब यह है कि सैन्य जूरी कानूनी तौर पर प्रशिक्षित नहीं थी. वह स्वतंत्र और निष्पक्ष भी नहीं थी. वह पूरी तरह से पाकिस्तानी सेना के कमांड और कंट्रोल में काम करती है. यह इंटरनैशनल कन्वेंशन ऑफ सिविल एंडपॉलिटिकल राइट्स के आर्टिकल 14 की भावना के खिलाफ है. 

कुलभूषण जाधव को पिछले साल ईरान के नियंत्रित बलूचिस्तान इलाके से 3 मार्च को अरेस्ट किया गया था. भारत सरकार का कहना है कि पूर्व नौसेना अधिकारी जाधव वहां बिजनस ट्रिप के लिए गए थे और उनके पास वैध पासपोर्ट और ईरानी वीजा था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*