पटना : 19 साल का हो गया महावीर कैंसर संस्थान, फरवरी से होगा बोन मैरो ट्रांसप्लांट

पटना / फुलवारी शरीफ (अजीत कुमार)  : इलाज के लिए आये रोगी संस्थान के लिए देवता के समान है. रोगियों को देवता की तरह ही आदर और सुविधा मिलनी चाहिए, यही मेरा धर्म है. मंगलवार की शाम  महावीर कैंसर संस्थान के 19वां स्थापना दिवस के अवसर पर संस्थान के संस्थापक आचार्य किशोर कुणाल समारोह के उद्घाटन पर सभा को सम्बोधित कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा कि धर्म को उपकार से जोड़ा जाये तो अच्छी बात है. बिहार में कुछ ऐसे मंदिर हैं जिनका महावीर मंदिर से अधिक आय है मगर पदर्शिता नहीं है.

पदर्शिता अपना कर बड़े बड़े मानव के उपकार के लिए काम किये जा सकते हैं. अस्पताल में अधिक रोगी हो जाना बड़ी बात नहीं है, रोगियों को पुरी  सुविधा और नि:शुल्क इलाज हो यह बड़ी बात होगी. उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में संस्थान में दो समय रोगियों को मुफ्त भोजन मिल रहा है. सौ रूपये में एक यूनिट ब्लड भी अश्वयक रोगियों को दिया जा रहा है. 18 वर्ष की कम उम्र के बच्चे जो कैंसर से पीड़ीत हैं. वैसे बच्चे को निः शुल्क इलाज  दिया जा रहा है. वृद्ध रोगियों जो मौत के अंतिम चरण में है, वैसे वृद्ध के लिए हॉस्पीटल का निर्माण और एक हार्ट हॉस्पीटल के निर्माण की बात चल रही है.

वहीं मौके पर मौजूद पटना एम्स के निदेशक  डॉ. प्रभात कुमार सिहं ने कहा कि कैंसर रोगियों के लिए यह संस्थान वर दान है. कुछ ही वर्षों में कैंसर के क्षेत्र में भारत ने अपनी पहचान बना ली है. इसके लिए सारे डाक्टरों और कर्मियों को बधाई. पीएमसीएच के प्रचार्य डॉ. विजय कुमार  गुप्ता ने कहा कि कैंसर इलाज में महावीर कैंसर का उत्कृष्ट योगदान है और कैंसर के विभिन्न पहलू पर शोध भी हो रहा है, जो आने वाले युवकों के लिए अच्छी पहल है.  इस से पूर्व संस्थान की सहायक निदेशिका डॉ. मनीषा सिहं से अब तक किये गये कार्यों का विस्तृत जानकारी देते हुये कहा कि फरवरी 2018  में संस्थान में बोन मैरो ट्रासंप्लाटं फरवरी में शुरू होने जा रहा है, जो संस्थान के लिए गर्व की बात है. डॉ. मनीषा ने हर विभाग का वार्षिक रिपोर्ट भी पेश किया. डॉ. रिचा सिहंचैहन ने शोध विभाग पर एक पूरी रिपोर्ट पेश की.

महावीर कैसंर के निदेशक डॉ. विश्वजीत संयाल ने अतिथियों का स्वागत किया. इस मौके पर  वार्षिक पुस्तिका  महावीर कैंसर संस्थान  एक मशाल नामक पुस्तक का अवलोकन भी किया गया. इस पुस्तक  के संकलन एंव संपादन मगनदेव  नारायण सिहं के द्वारा की गयी है. इस बार  हर विभाग में उत्कृष्ट योगदान के लिए वर्ग तृतीय और चुतर्थ वर्गीय कर्मचारी को प्रणाम पत्र भी दिया गया. मंच का संचालक  संस्थान के अधीक्षक डॉ. एलबी सिहं और मगन देव नारायण सिहं ने किया. इस मौके पर पटना के नामचीन डाक्टरों की  भारी संख्या थी. देर शाम तक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किया गया.

स्थापना दिवस पर दूसरा लीनियर एक्सीलिरेटर उद्घाटित

महावीर कैंसर संस्थान एवं शोध केन्द्र अपने 19वें स्थापना दिवस पर दूसरे अत्याधुनिक लीनियर एक्सीलिरेटर से लैस हो गया. इस दूसरे अत्याधुनिक लीनियर एक्सीलिरेटर का उद्घाटन संस्थान के संस्थापक एवं महावीर स्थान न्यास समिति के सचिव आचार्य किशोर कुणाल ने किया. संस्थान में पांच सेकाई की मशीन कार्यरत हो गयी है. पहले से दो कोबाल्ट मशीन एक लीनियर एक्सीलिरेटर मशीन और एक ब्रेकीथेरेपी मशीन कार्यरत थी. किन्तु, इसके बाद भी मरीजों को लम्बे समय तक सेकाई के लिए प्रतीक्षा करनी पड़ती थी.

मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए रेडियोथेरेपी विभाग की प्रमुख डॉ. विनीता त्रिवेदी ने कहा कि आज उद्घाटित लीनियर एक्सीलिरेटर मशीन विश्व की आधुनिकतम मशीन है, जिससे बहुत कम समय में लगभग 5 मिनट में मरीज की सेकाई का काम पूरा हो जाता है. इससे मरीजों को कोई तकलीफ नहीं होती है और इस मशीन से टारगेटेड सेकाई होने से स्वस्थ कोशिकाओं को कोई नुकसान नहीं होता. सेकाई के लिए मरीजों की भारी संख्या से निपटना आसान नहीं था. अतः लम्बी प्रतीक्षा सूची बनानी पड़ती थी. अब मरीजों को लम्बी प्रतीक्षा नहीं करनी पड़ेगी.

संस्थान के निदेशक डॉ. विश्वजीत सन्याल ने कहा कि देश के अनेक बड़े-बड़े संस्थानों में काम कर चुके हैं, किन्तु इस अस्पताल में मरीजों की चिंता जितनी गम्भीरता से की जाती है, वह अन्यत्र देखने को नहीं मिला. प्रेसवार्ता में संस्थान की सह-निदेशक डॉ. मनीषा सिंह के साथ-साथ अधीक्षक डॉ. एल. बी. सिंह ने भी भाग लिया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*