अपनी पहचान छिपाने के लिए अपराधियों ने की थी 60 साल की महिला की हत्या

पटना : 60 साल की आशा देवी के हत्या की गुत्थी को पटना पुलिस ने सुलझा लिया है. इनकी हत्या दो अपराधियों ने मिलकर की थी. इनके सिर पर लोहे के रॉड से वार किया गया था. हत्या की इस गुत्थी को सुलझाने में पटना पुलिस को दो महीने से अधिक का वक्त लगा. 10 सितंबर को हत्या का ये मामला सभी के सामने आया था. वारदात शास्त्रीनगर थाना के शिवपुरी इलाके की है. हत्या के बाद अपने ही घर में महिला की लाश पाई गई थी. दरअसल, पुलिस के सामने ये एक ब्लाइंड केस था.

एफआईआर दर्ज कर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी थी. लेकिन कोई क्लू नहीं मिल पा रहा था. हत्या के इस अनसुलझे मामले को सुलझाने में पटना सिटी के मोगलपुरा के रहने वाले अजय कुमार दास की पुलिस टीम ने तलाश शुरू की. अजय घूम—घूम कर आयुर्वेदिक तेल बेचने और मालिश का काम करता था. इसके ही दो लोगों को पुलिस टीम  ने अरेस्ट किया. जिसमें राजा महतो उर्फ रवि रंजन और सुनील कुमार महतो उर्फ भंडारी शामिल हैं. ये दोनों अपराधी भी मोगलपुरा इलाके के रहने वाले हैं. फिलहाल पुलिस को अजय की तलाश है.

इनके पास से लोहे का वो रड भी बरामद किया गया, जिससे आशा देवी की हत्या की गई थी. पुलिस के अनुसार अजय अक्सर महिला के घर आया करता था. राजा और सुनील इस बात से वाकिफ थे. इन्हें पता था कि महिला घर में अकेले रहती है. घर में लूटपाट की व चोरी की इनकी प्लानिंग एक बार फेल हो चुकी थी. उस वक्त घर में कोई नहीं था.

जब दूसरी बार दोनों अपराधी लूटपाट करने पहुंचे तो महिला घर में अकेले थी. लूटपाट करते हुूए दोनों अपराधियों को महिला देख लिया था. अपनी पहचान छीपाने के लिए दोनों अपराधियों ने महिला की हत्या कर दी थी. पुलिस की मानें तो दोनों ही अपराधी मजदूरी करते हैं. इनके आपराधिक इतिहास को भी अब खंगाला जा रहा है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*