कार में हथियार लेकर घूम रहा था सीमेंट कारोबारी, चेकिंग के दौरान पुलिस ने पकड़ा

पटना : वो बिजनेस करता है सीमेंट का. लेकिन घूमता है हथियार से लैश होकर. उसका हथियार हर वक्त गोलियों से भरा रहता है. गोलियों से भरे हथियार को लेकर वो रात के अधेरे में कार से घूमता है. लेकिन आश्चर्य वाली बात ये है कि उसके पास लोडेड हथियार को कोई लाईसेंस नहीं है. अवैध रूप से हथियार रखने के मामले में अब ये सीमेंट कारोबारी पुलिस के हत्थे चढ़ चुका है. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है. हथियार और उसके कार को जब्त कर लिया है. ये पूरा मामला है पटना के बेउर थाना का. पकड़े गए सीमेंट कारोबारी का नाम धीरज कुमार है. पूछताछ के दौरान इसने खुद को सीमेंट कारोबारी और पुनाईचक इलाके में पोस्ट आॅफिस के पास का रहने वाला बताया.

— चेकिंग के दौरान पुलिस ने रोकी थी कार
शनिवार की रात बेउर थाना के एसएचओ आलोक कुमार और उनकी टीम अपने इलाके से गुजरने वाले गाड़ियों की चेकिंग में लगे थे. पुलिस की एक टीम सिपारा रेलवे क्रॉसिंग के पास मौजूद थी. वहां से गुजरने वाले हर गा​ड़ी को चेक किया जा रहा था. बात देर रात करीब डेढ़ बजे की है. एक कार परसा बाजार इलाके की तरफ से आ रही थी. रेलवे क्रॉसिंग के पास आते ही पुलिस टीम ने कार को रुकवाया. उसकी तलाशी शुरू की गई.

— छिपाकर रखा था हथियार
सीमेंट कारोबारी ने पुलिस के डर से हथियार को कार के अंदर सीट के नीचे छीपा रखा था. लेकिन तलाशी के दौरान पुलिस टीम ने उसे खोज निकाला. जांच में हथियार गोलियों से भरा मिला. थानेदार आलोक कुमार के अनुसार बरामद हथियार देखने में रायफल की तरह है, लेकिन वो चलाने में पिस्टल की तरह है. हथियार में लोड किए गए 5 गोलियों को भी बरामद किया गया है.

— पुलिस ने दिया पूरा मौका
हथियार बरामद होने के बाद धीरज ने पुलिस के सामने काफी पैंतरे बदले. वो बार—बार कहने लगा कि उसके पास हथियार का लाईसेंस है. पुलिस ने खुद को सही साबित करने का पूरा मौका दिया. लाईसेंस पेश करने के लिए काफी टाईम दिया. लेकिन रविवार की शाम तक वो लाईसेंस नहीं दिखा सका. आलोक कुमार के अनुसार उसके बताए पते की जांच शास्त्रीनगर थाने की पुलिस टीम कर रही है. पूछताछ में उसने बताया कि देर रात को वो पुनपुन से लौट रहा था. लेकिन किस काम से गया था और हथियार पास में क्यों रखा था? इसका वो जवाब नहीं दे पा रहा है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*