खुलासा : कारोबारी से बेऊर जेल में बंद अपराधियों ने मांगी थी 25 लाख की रंगदारी

rangdari

पटना : किराना कारोबारी से 25 लाख रुपए की रंगदारी मांगने के मामले को पटना पुलिस ने सुलझा लिया है. रंगदारी के लिए पटना के बेउर जेल से कॉल किया गया था. कॉल करने वाले अपराधी उसी जेल में बंद हैं. पुलिस की जांच में कुख्यात अपराधी विक्की मोबाइल और रंजीत कुमार उर्फ मतिया का नाम सामने आया.

एसएसपी मनु महाराज के आदेश पर जांच कर रही पुलिस टीम ने बेउर जेल में छापेमारी की. दोनों अपराधियों के पास से उस मोबाइल और सीमकार्ड को बरामद कर लिया गया, जिससे किराना कारोबारी संजय कुमार के मोबाइल पर कॉल किया गया था और उनसे रंगदारी की रकम डिमांड की गई थी. रंगदारी की रकम नहीं देने पर जान से मारने की धमकी इन दोनों अपराधियों ने दी थी. जेल के ही अंदर पुलिस की टीम ने इन दोनों अपराधियों से पूछताछ की.

vikki
विक्की मोबाइल

जिसमें दोनों ने ही अपनी संलिप्तता स्वीकार ली है. दरअसल, जिस मोबाइल नंबर से कॉल कर रंगदारी मांगी गई थी, पुलिस की टीम ने उसका टावर लोकेशन खंगाला था. जांच में टावर लोकेशन बेउर जेल मिला था. टावर लोकेशन और कॉल डिटेल्स के आधार पर ही पुलिस टीम जेल में बंद इन दोनों अपराधियों तक पहुंच पाई.

ranjit
रंजीत उर्फ़ मतिया

भाई ने दिया था नंबर

रंगदारी के इस मामले में जेल में बंद रंजीत उर्फ मतिया के भाई विवेक उर्फ विक्की ने लाइनर का रोल निभाया था. विवेक ने ही अपने भाई को कारोबारी का मोबाइल नंबर दिया था. इसने ही जेल के अंदर मोबाइल और सीमकार्ड भी उपलब्ध कराई थी. पुलिस की जांच में इस बात की पुष्टि हो चुकी है. लाइनर का रोल निभाने वाले विवेक को आलमगंज थाने की पुलिस टीम ने अरेस्ट कर लिया है. गौरतलब है कि कारोबारी संजय कुमार ने 10 अक्टूबर को आलमगंज थाने में रंगदारी का एफआईआर दर्ज कराया था. इसके बाद ही एसएसपी ने पूरे मामले की जांच के लिए एक स्पेशल टीम बना डाली थी.

लंबा है अपराधिक इतिहास 

काफी कम समय में ही रंजीत उर्फ मतिया और विक्की मोबाइल ने अपना आपराधिक रिकॉर्ड बड़ा कर लिया है. हत्या, रंगदारी और लूट जैसी वारदातों को अंजाम देने में ये दोनों की काफी माहिर हैं. एसएसपी मनु महाराज की मानें तो मतिया को सुलतानगंज थाना की पुलिस टीम ने हाल में हत्या के एक मामले में गिरफ्तार कर जेल भेजा था.

इसके खिलाफ सचिवालय, रूपसपुर, जक्कनपुर, एसके पुरी, गांधी मैदान, सुल्तानगंज और आलमगंज थानों में करीब एक दर्जन मामले दर्ज हैं. जबकि कुख्यात विक्की मोबाइल के खिलाफ अकेले आलमगंज थाना में 7 से अधिक एफआईआर दर्ज हैं. जिसमें हत्या के दो, आर्म्स एक्ट के 5 मामले हैं. जल्द ही मतिया और विक्की मोबाइल को पुलिस टीम रिमांड पर लेगी और डिटेल से पूछताछ करेगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*