दानापुर रेल डिवीजन में मानव रहित 61 समपार फाटकों पे बनेगा लिमिट हाइट सब वे

पटना (अमित जायसवाल): मानव रहित समपार फाटकों का दौर अब खत्म होने वाला है. इसके लिए दानापुर रेल डिवीजन में काम शुरू हो गया है. लिमिट हाइट सब वे बनाने का काम चालू कर दिया गया है. डीआरएम आर.के. झा, मंडल एवं डिवीजन के सीनियर के इंजीनियर पवन कुमार खुद इसकी मोनिटरिंग कर रहे हैं. दानापुर रेल मंडल रेलवे से सभी मानवरहित समपार फाटकों (Unmanned Level Crossing) को पुर्णतः समाप्त करने की दिशा में तेजी से अग्रसर है.


इसी दिशा में ” लिमिटेड हाईट सबवे” का निर्माण की प्रक्रिया तेजी से अपनाई जा रही है तथा इस वित्तीय वर्ष में 15 ” लिमिटेड हाईट सबवे” के निर्माण का लक्ष्य रखा गया है,जिसमें विगत तीन माह यथा अप्रैल’17 से जून’17 तक किउल-गया रेलखंड पर अवस्थित 03 मानवरहित समपार फाटकों पर ” लिमिटेड हाईट सबवे” का निर्माणकार्य पूरा किया जा चुका है.

विदित हो कि मंडल में कुल 62 मानवरहित समपार फाटक है जिसमे से 61 स्थानों पर ” लिमिटेड हाईट सबवे”  का निर्माण होना है जिसकी स्वीकृति रेल मंत्रालय द्वारा प्राप्त हो चुकी है. 61 के अलावा एक मानवरहित समपार फाटक को मानवसहित समपार फाटक (Manned Level Crossing) में रूपांतरित किया जाएगा.


दानापुर मंडल में किउल-गया रेलखंड पर 08, फतुहा-इस्लामपुर रेलखंड पर 21, बख्तियारपुर-राजगीर रेलखंड पर 12, राजगीर-तिलैया रेलखंड पर 10 तथा दनियावां-बिहारशरीफ रेलखंड पर 10 मानवरहित समपार फाटक अवस्थित है. मंडल के मेन लाइन यथा मुग़लसराय से झाझा तक कोई मानवरहित समपार फाटक अवस्थित नही है.

“लिमिटेड हाईट सबवे” (Limited Hight Subway) की विशेषताएं

1) एक ” लिमिटेड हाईट सबवे” के निर्माण में लगभग मात्र ₹ 1.25 करोड़ की लागत आती है.
2) एक ” लिमिटेड हाईट सबवे” के निर्माण की प्रक्रिया मात्र 06 घंटे में ही पूर्ण कर ली जाती है, जिससे गाड़ियों के निर्वाध परिचालन ज्यादा प्रभावित नही होता है.
3) इसकी चौड़ाई लगभग 5 मीटर तथा ऊंचाई लगभग 4 मीटर होती है.
4) इसके निर्माण में पहले से निर्मित बॉक्स के आकार के ढांचे का इस्तेमाल करते हुए निर्धारित खांचे में  क्रेनों की मदद से स्थापित कर दिया जाता है, जिसकी चौड़ाई, लंबाई तथा ऊंचाई लगभग क्रमशः 5 मीटर, 1.67 मीटर तथा 4 मीटर होता है.
5) एक ” लिमिटेड हाईट सबवे” के निर्माण में 1.67 मीटर वाले लगभग 8 ढांचों की आवश्यकता होती है.
6) इसे स्थापित करने के लिए 100 टन की क्षमता वाले दो क्रेनों की आवश्यकता होती है.

फायदे
1) दुर्घटनाओं से होने वाले बहुमूल्य मानव जीवन की क्षति को पूर्णतः विराम दिया जा सकेगा.
2) रोड उपयोगकर्ता अनवरत अपनी यात्रा जारी रख सकेंगे.
3) इसके निर्माण से ध्वनि प्रदूषण में कमी हो सकेगी, क्योंकि मानवरहित समपार फाटकों पर ट्रेनों के चालकों द्वारा चेतावनी स्वरूप कई बार हार्न/व्हिसल का उपयोग किया जाता है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*