बालू लोडेड ट्रैक्टर ने स्कूली बच्चों से भरे ऑटो को ठोंका, एक बच्चे की मौत

फुलवारीशरीफ, अजीत यादव : मंगलवार की सुबह सुभाष यादव के घर अमंगल खबर लेकर आया. जिसे सुनकर परिवार समेत पूरे गांव में कोहराम मच गया. सुभाष यादव के एकलौते 8 वर्षीय पुत्र जो गांव के पास एक स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ने जा रहा था, जिस ऑटो से सुभाष का बेटा रोहित कुमार स्कूल जा रहा था, उसे बेलगाम बालू लोडेड ट्रैक्टर ने जोरदार धक्का मार दिया. घटनास्थल पर ही मासूम बालक रोहित की मौत हो गयी. जबकि एक दर्जन स्कूली बच्चे जख्मी हो गए.

दुर्घटना में ऑटो दूर फेंका कर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. इधर खेतों में काम कर रहे किसानों ने दौड़कर भाग रहे ट्रैक्टर को खदेड़ा. किसानों की भीड़ से घिरता देख ट्रैक्टर चालक ट्रैक्टर छोड़ भाग खड़ा हुआ. ग्रामीणों ने घायल स्कूली बच्चों को आनन-फानन अस्पताल लेकर दौड़े. ग्रामीणों के मुताबिक सभी बच्चों को चोटें आई हैं जिनका दूसरे अस्पतालों में इलाज चल रहा है.

घायलों में अंजलि कुमारी, पिता धर्मेन्द्र यादव, रीना कुमारी पिता डॉ सुनील कुमार समेत करीब दर्जन भर बच्चे शामिल हैं. दुर्घटना के बाद ग्रामीणों ने टैक्टर के टायर पंक्चर कर जमकर बवाल काटने लगे. सूचना पाकर मौके पर पहूंची नौबतपुर पुलिस को ग्रामीणों ने खदेड़ दिया और शव को उठाने से रोक दिया.

मौके पर जानीपुर थानेदार मोहन प्रसाद भी दल बल के साथ पहुंचे और ग्रामीणों को समझाने में जुट गए. इधर एकलौते बेटे की मौत की खबर सुनकर मां मालती देवी के साथ अन्य परिजन घटनास्थल पहुंच विलाप करने लगे और बड़ी संख्या में ग्रामीण शव के साथ सड़क जाम कर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं.

ग्रामीण घटनास्थल पर वरीय पुलिस अधिकारियों को बुलाने की मांग कर रहे हैं. ग्रामीणों ने बताया कि अजमा गांव के पास एक निजी स्कूल का ऑटो रोज की तरह बच्चों को लेकर स्कूल की ओर जा रहा था. इसी दौरान बेलगाम रफ्तार से आ रहे बालू लोडेड ट्रैक्टर ने स्कूली बच्चों से भरा ऑटो में धक्का मार दिया. दुर्घटना में रघुनाथ पुर भेलूरा निवासी सुभाष यादव के 8 साल के एकलौता बेटा की मौत हो गयी जबकि अन्य बच्चे घायल हो गए.

ग्रामीणों के मुताबिक ऑटो पर करीब एक दर्जन से अधिक बच्चे सवार थे. जिन्हें ग्रामीण अपने अपने स्तर से इलाज के लिए अस्पताल लेकर चले गए. इधर घटनास्थल पर विलाप कर रहे मृतक के परिजनों के साथ ही बड़ी संख्या में ग्रामीण सड़क जाम कर हो हंगामा करने लगे. दुर्घटना की खबर सुनकर मौके पर पहुंची नौबतपुर पुलिस की लोगों ने एक नहीं सुनी और शव उठाने से रोक दिया. पुलिस ग्रामीणों को समझाने में जुटी है लेकिन लोगों का गुस्सा थमने का नाम नहीं ले रहा है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*