TVF के बिहारी सीईओ अरुणाभ पर यौन शोषण का आरोप, FIR दर्ज

लाइव सिटीज डेस्क : यू ट्यूब चैनल ‘द वायरल फीवर’ के CEO अरुणाभ कुमार के खिलाफ मुम्बई पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है. बता दें कि अरुणाभ कुमार पर उन्ही के कंपनी की  इंम्प्लॉयी रह चुकी एक लड़की ने छेड़छाड़ का आरोप लगाया था. लेकिन मामला उस समय दर्ज नहीं हुआ था. पर, 30 मार्च को मुंबई पुलिस ने उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. 

MIDC के इन्वेस्टीगेटिंग इंस्पेक्टर पद्माकर देवड़े ने बताया कि गुरुवार को TVF के सीईओ अरुणाभ के खिलाफ सेक्शन 354A और 509 के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. 

दरअसल, उनके ही कंपनी में एक स्टाफ रह चुकी लड़की द्वारा उन पर यौन शोषण का आरोप लगाने के बाद मामला तूल पकड़ने लगा था. जिसके बाद सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ कई लोगों ने आवाज़ उठाई. ऐसे में अब मुंबई के अंधेरी पूर्व इलाके के पुलिस थाने में अरुणाभ कुमार के खिलाफ छेड़खानी और यौन शोषण का मामला दर्ज हुआ है. हालांकि पुलिस ने शिकायतकर्ता का खुलासा नहीं किया और ना ही अभी तक कुमार को गिरफ्तार किया है.  जांच कर इंस्पेक्टर पद्माकर ने यह साफ किया कि अरुणाभ के खिलाफ मुकदमा वो लड़की दर्ज नहीं कराई है जिसने  उन पर आरोप लगाया था.

बता दें कि ‘द इंडियन उबर- दैट इज टीवीएफ’ नाम के एक ब्लॉग में एक लड़की ने अपने साथ हुई इस घटना के बारे में बताया था. जिसके बाद अरुणाभ ने इन आरोपों को नकारते हुए महिला के खिलाफ कोर्ट में जाने की बात कही. लेकिन इसके बाद सोशल मीडिया पर कई और महिलाओं ने अरुणाभ के खिलाफ आवाज़ उठाई और उनपर यौन शोषण का आरोप लगाया.

मुजफ्फरपुर की रहने वाले हैं अरुणाभ और पीड़िता

बता दें कि पीड़ित महिला के ब्लॉग के अनुसार वह बिहार के मुजफ्फरपुर की रहने वाली है और अरुणाभ कुमार भी इसी शहर से आते हैं. पीड़िता ने आरोप लगाया था कि जब उसने कंपनी ज्वाइन की थी तभी से उसके साथ शोषण शुरू हुआ जो कि 2016 तक चलता रहा. पीड़िता ने ब्लॉग में लिखा था कि अरुणाभ कई मौकों पर उनके साथ अभद्रता करते थे, वह जानबूझकर पार्टी में गोद में उठा लेते थे और नशे का बहाना बनाकर उन पर गिर जाया करते थे.

क्या है पूरा माजरा

क्वार्टज.कॉम के अनुसार  इंडियन फाउलर नाम की इस मीडियम यूजर ने बताया है कि उन्हें टीवीएफ में काम करते हुए तीन हफ्ते हुए थे. उनसे शाम को ऑफिस आने को कहा गया. जब वो ऑफिस में पहुंची तो ऑफिस में बस अरुणाभ थे. बाकी लोग निकल चुके थे.

‘हम दोनों एक ही जगह से आते हैं- मुजफ्फरपुर से. इसलिए काम के दौरान हम ‘मैं’ से ‘हम’ पर आ गए. अरुणाभ ने मुझसे पूछा कि ‘तुम चतुर्भुज स्थान (मुजफ्फरपुर में रेड लाइट एरिया) के बारे में जानती हो? मुझे ये जगह बहुत पसंद है. यहां कमर्शियल डील्स होती हैं. तुम भी तो कमर्शियल डील से ही आई हो न. मैं बिल्कुल हैरान रह गई. मैंने बोला, ‘ अरुणाभ आप हमारे भाई जैसे हैं. जो भी काम है, हमें बताइए हम खत्म करके घर जाएंगे. इसके बाद उसने मेरा हाथ पकड़कर कहा, ‘थोड़ा रोल प्ले करें. उसके बाद मैंने खुद को बाथरूम में बंद कर लिया और अरुणाभ के जाने के बाद ही वहां से निकली.’

इस ब्लॉगर ने आगे ये भी लिखा है, ‘जब मैंने पुलिस में शिकायत करने की बात की तो अरुणाभ ने कहा पुलिस तो मेरी जेब में है.’

‘द वायरल फीवर’ की टीम ने  आरोपों को किया खारिज
‘द वायरल फीवर’ की टीम ने इन आरोपों को खारिज करते हुए आधारहीन और हास्यास्पद बताया है. इस स्टेटमेंट में आगे कहा गया है, ‘हम इस ब्लॉग के राइटर को किसी भी हालत में ढूंढ निकालेंगे और झूठा आरोप लगाने के खिलाफ न्याय की मांग करेंगे.  हालांकि इस स्टेटमेंट में धमकी के पुट को नजरअंदाज करना मुश्किल है.

अरुणाभ कुमार आईआईटी ग्रेजुएट हैं. उन्होंने 2011 में अपना यूट्यूब चैनल ‘द वायरल फीवर’ शुरू किया था. इस ब्लॉगर ने टीवीएफ के एक शो ‘पिचर्स’ के एक्टर नवीन कस्तूरिया से इस बारे में बात की तो जबाव आया, ‘दुनिया है. होता है.’ हालांकि, टीवीएफ की टीम के स्टेटमेंट के अलावा और भी कइयों ने इन आरोपों को खारिज किया है.

द क्विंट के अनुसार  इन आरोपों पर नवीन कस्तूरिया ने कहा है कि वो ऐसी किसी कर्मचारी से कभी नहीं मिले हैं और उनका इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है. उनका कहना है कि ये ब्लॉग फेक है.

यह भी पढ़ें-  अंगूरी भाभी ने FIR में खोले कई राज, प्रोड्यूसर संजय कोहली ने किया था यौन उत्‍पीड़न

पूरी दुनिया को हंसाकर पेट में दर्द दे रहे The Viral Fever का बिहारी कनेक्शन 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*