बेउर से भागलपुर जेल में शिफ्ट किया गया कुख्यात रंजीत चौधरी, व्हाट्सऐप के जरिए आॅपरेट कर रहा था गैंग

पटना : बिहार—झारखंड के कुख्यात अपराधी रंजीत चौधरी को भागलपुर जेल में शिफ्ट कर दिया गया है. पिछले तीन महीने वो पटना के बेउर जेल में बंद था. लेकिन जेल के अंदर होने के बाद भी इसकी आपराधिक गतिविधियां जारी थी. बेउर जेल में बैठकर आरा में ये अपने गैंग को आॅपरेट कर रहा था. अपने गुर्गों को लगातार हत्या करने और रंगदारी मांगने का निर्देश दे रहा था.

BEUR Patna Central Jail

रंजीत चौधरी के इशारे पर ही हाल के दिनों में आरा के अंदर हत्या की दो—तीन वारदातों को अंजाम दिया गया था. जांच के दौरान पटना पुलिस को इस बात के पुख्ता सबूत मिले हैं. इसके बाद ही बेउर जेल के अंदर रंजीत चौधरी के उपर कड़ी नजर रखी जाने लगी थी.

स्मार्ट फोन देख दंग रह गई थी पुलिस टीम

पटना के एसएसपी मनु महाराज को रंजीत चौधरी पर पहले से शक था. बात 10 दिन पहले की है. चुपचाप तरीके से एसएसपी के निर्देश पर बेउर जेल में अचानक छापेमारी की गई. उसी दौरान रंजीत चौधरी के पास से पुलिस टीम ने एक स्मार्ट फोन बरामद किया. जेल में होने के बाद भी लगातार वो इंटनेट इस्तेमाल कर रहा था. मोबाइल जब्त करने के बाद उसकी जांच की गई. पुलिस टीम को मोबाइल में व्हाट्स ऐप मिला. जब उसे खंगाला गया तो कई सारे इन्फॉरमेशन पुलिस टीम के हाथ लगे. व्हाट्स ऐप के जरिए ही उसने अपने गुर्गों को आरा में लोगों की हत्या करने और रंगदारी मांगने का आदेश दिया था. लगातार वो अपने गुर्गों के कांटेक्ट में था.

एसएसपी ने भेजी थी रिपोर्ट

इस मामले को एसएसपी मनु महाराज ने काफी गंभीरता से लिया. पूरे मामले की एक डिटेल रिपोर्ट बनाई. फिर रंजीत चौधरी को बेउर जेल से दूसरे जेल में शिफ्ट करने की अनुशंसा पटना के डीएम संजय अग्रवाल को भेज दी. एसएसपी की रिपोर्ट को डीएम ने जेल आईजी आनंद किशोर को भेजा. इसके बाद जेल आईजी के आदेश पर कार्रवाई की गई और रंजीत को भागलपुर जेल में​ शिफ्ट कर दिया गया.

16 अगस्त को हुई थी गिरफ्तारी

पटना पुलिस की स्पेशल टीम ने 16 अगस्त को औरंगाबाद के क्लब रोड में छापेमारी की थी. पिंटू शर्मा के घर से कुख्यात रंजीत चौधरी को गिरफ्तार किया गया था. इसके खिलाफ पटना, आरा के साथ ही झारखंड के जमशेदपुर में भी हत्या, लूट और रंगदारी के कई आपराधिक मामले दर्ज हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*