DIG शालीन ने चेताया- बहुत हो गया, अब कोई बचना नहीं चाहिए

पटना : DIG शालीन. शालीन तो हैं, मगर कानून-व्यवस्था में नरमी पर कड़क हो जाते हैं. कुछ ऐसा ही हुआ आज जब शालीन ने पटना पुलिस के आला अधिकारियों की एक बैठक बुला दी. पिछले दिनों पटना जिले में हुई लूट और हत्या  जैसी घटनाओं को लेकर DIG शालीन गुस्से में थे. अपने अफसरों को चेताते हुए उन्होंने कहा कि अभी तक आपने अच्छा काम किया है. लेकिन बीते दिनों में जिस तरह घटनाएं हुई हैं, उससे कानून-व्यवस्था के प्रति लोगों को विश्वास कम हो रहा है. मगर अब बहुत हो गया. कानून-व्यवस्था से खिलवाड़ करने वाला चाहे वह कोई भी हो, बचना नहीं चाहिए.

बैंक क्यों कर रहे हैं बिना सुरक्षा के कैश का आदान-प्रदान, सख्ती लाइए

DIG शालीन ने बैठक के दौरान कहा कि बैंकों को नगदी के आदान-प्रदान के लिए ये खास निर्देश दिए गए हैं कि बड़े लेन-देन पुलिस की सूचना और पुलिस की सुरक्षा के बीच ही करनी है. किसी निजी एजेंसी के सहारे नहीं रहना है. मगर फिर भी बैंक इसका पालन नहीं कर रहे हैं. ऐसा करने वाला कोई भी बैंक अथवा शाखा हो, उसके खिलाफ सख्ती दिखायी जाए. क्योंकि, यदि सुरक्षा में सेंध लगती है तो सवाल पुलिस पर खड़ा होता है.

होली के हुड़दंगियों पर हो खास नजर

होली के त्योहार को लेकर भी DIG शालीन ने अपने अफसरों को जरूरी दिशा निर्देश दिए. शालीन का जोर इस बात पर था कि पुलिस ये सुनिश्चित करे कि शराबबंदी के बाद भी कोई हुड़दंगी शराब नहीं पी सके. इसके लिए सख्ती से गश्त होनी चाहिए. हुड़दंगियों और संदिग्धों पर भी खास नजर रखी जाए. चोर-उचक्कों को लेकर भी सावधान होने की जरुरत है. यदि नियमित गश्त को बढ़ा दिया जाए तो इस पर काबू पाया जा सकता है.

मुझे भरोसा है कि मेरे अफसर अपराधियों को जल्दी ही पकड़ लेंगे

बैठक के अंत में शालीन ने अफसरों की हौसला अफजाई भी की. उन्होंने कहा कि अभी तक आप लोगों ने अच्छा काम किया है. विशेष तौर पर शराबबंदी के बाद पुलिस ने जिस तरह से अपराध पर लगाम लगाया है, लोगों को उसे भी देखना होगा. अफसरों से कहा कि आप मुस्तैदी से अपनी जिम्मेदारी निभाएं, अपराधी जल्दी ही गिरफ्त में होंगे.



यह भी पढ़ें : बालू माफियाओं सावधान, आ रहे हैं DIG शालीन…

शराबियों को छोड़ा तो बदल दिया पूरा थाना

गूगल बाबा बताने को तैयार हैं – निखिल प्रियदर्शी कहां छुपा है, कोई जाने तो ?

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*