सोशल मीडिया पर चर्चा : ‘पेशाब पि‍ए कि‍सान….फि‍र भी मेरा मोदी महान’

Tamil-Nadu-farmers

लाइव सिटीज डेस्क : जंतर-मंतर पर एक महीने से ज्यादा समय से विरोध-प्रदर्शन कर रहे तमिलनाडु के किसान सरकार का ध्यान अपनी तरफ खींचने के लिए विरोध का अलग-अलग तरीका अपना चुके हैं. प्रदर्शन की अपनी हद पार करते हुए किसानों ने शनिवार को अपना पेशाब पिया और कहा कि केंद्र सरकार ने यदि उनकी बात नहीं सुनी तो वे रविवार को अपना मल खाने से भी परहेज नहीं करेंगे.

 

किसानों के इस प्रदर्शन और सांकेतिक तौर पर पेशाब पीने की चर्चा सोशल मीडिया पर भी है.

फेसबुक पर तजीन खान लिखती हैं- ‘घरों में बुर्के में बैठी तीन तलाक़ वाली औरतें दिख जा रही है, जंतर मंतर पर नंगे बैठे किसान नहीं दिख पा रहे। कौन सा चश्मा पहने हो भाई ????’

प्रियभांशु रंजन लिखते हैं, ”राहुल जी, पेशाब पीने को मजबूर किसानों के साथ धरना दीजिए. मुद्दा बुरा नहीं है!”

अविनाश ने फेसबुक पर लिखा, ”जंतर मंतर पर किसान पेशाब पी रहे हैं और हम धर्म का धतूरा पीकर सो रहे हैं.”

यासीन लिखते हैं – ”देश का अन्नदाता, मूत्रपान कर अपना मल खा रहा है, और सरकार लाल लाईट लाल लाईट खेल रही हैं”

राहुल पांडे ने लिखा, ”पेशाब पि‍ए कि‍सान….फि‍र भी बोलें भक्‍त, मेरा मोदी महान.”

ऋतुराज लिखते हैं – ”आज जंतर मंतर पे शायद मीडिया इसलिए जाय की ,किसान गू खाने वाले हैं और कोई वजह नहीं है?”

हलांकि बहुत से लोगों ने किसानों के विरोध में भी लिखा है.

रवि रावत ने फेसबुक पर लिखा, ‘‘तमिलनाडु के किसानों के पेशाब पीने पर सारे मोदी अंधविरोधी तमिलनाडु सरकार को क्लीन चिट देकर मोदी को घेर रहे हैं. सब जानते हैं कि किसान राज्य की जिम्मेदारी पहले होता है, केंद्र की बहुत बाद में.”

महेश लिखते हैं, ”ये षडयंत्र के अंग हैं. किसी किसान के पास इतनी फुर्सत नहीं कि घर छोड़कर महीनों दिल्ली में डेरा डाले रहें.”

Tamil-Nadu-farmers

रविंद्र कुमार ने लिखा, ”2022 तक अगर आधे किसान जब मर जाएंगे, तब बचे किसानों की आमदनी वैसे ही दोगुनी हो जाएगी.”

त्रिलोक सिंह परमार ने लिखा, ” यूपी में किसानों का कर्ज़ राज्य सरकार ने माफ किया. तमिलनाडु सरकार से कहने की बजाय ये किसान केंद्र सरकार से कर्ज़ माफी क्यों चाह रहे हैं? शायद इन किसानों को तमिलनाडु की सरकार से ज्यादा बीजेपी की सरकार पर यकीन है.”

यह भी पढ़ें- रेणु के गांव में सम्मानित हुए रवीश, नीतीश के बाद ‘लोकरत्न सम्मान’ पानेवाले दूसरे व्यक्ति

जानिये इस बार क्यों ट्रोलर्स का निशाना बनी सोनम

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*