ये देखो… सांसद प्रतिनिधि का बेटा शराब तस्कर निकला

wine
प्रतीकात्मक फोटो

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार में पूर्ण शराबबंदी क्या हुई, पड़ोसी राज्यों में तस्करों की चांदी हो गयी है. वे दिन-रात बिहार में शराब भेजने की जुगत में लगे रहते हैं. यहां तक कि वैसे लोगों को राजनीतिक संरक्षण मिलने की भी बात सामने आ रही है. ऐसे ही एक मामले का खुलासा पड़ोसी राज्य झारखंड के कोडरमा में हुआ है. शराब को बिहार भेजा जाना था.

जानकारी के अनुसार शराब तस्करी में राजनीतिक संरक्षण प्राप्त होने का खुलासा उस समय हुआ, जब झारखंड के कोडरमा में शराब तस्करी का एक मामले को पुलिस ने पकड़ा. सूत्रों के अनुसार तिलैया थाना पुलिस ने महतो आहर के पास चेकिंग के दौरान एक सफेद रंग की महेंद्रा क्वांटो सीएक्स कार से 11 पेटी शराब बरामद की. मौके से गाड़ी चालक सोनू को गिरफ्तार कर लिया गया.

जांच से बचने के लिए तस्कर ने वाहन के आगे व पीछे ‘भारत सरकार’ का बोर्ड लगा रखा था. वाहन के आगे भारत सरकार- ईसीआर (ईस्ट सेंट्रल रेलवे) अंकित है. शराब की तस्करी में मंटू सिंह का नाम सामने आया है, जो भाजपा सांसद रविंद्र राय के प्रतिनिधि रामचंद्र सिंह का पुत्र है. बरामद शराब आरएस डब्ल्यू ब्रांड की है. इनमें 10 पेटी 180 एमएल की कुल 480 बोतल तथा एक पेटी में 395 एमएल की कुल 24 बोतल शराब शामिल है. विशुनपुर रोड निवासी चालक सोनू कुमार को थाने लाकर पुलिस उससे पूछताछ कर रही है.

wine
प्रतीकात्मक फोटो

पूछताछ में सोनू ने बताया कि गाड़ी अभिताभ सिंह, झुमरीतिलैया, अड्डी बंग्ला निवासी की है. वो टेंट हाउस का काम करते हैं. मंगलवार को अभिताभ सिंह ने गाड़ी लेकर ब्लॉक रोड स्थित मंटू सिंह की दुकान पर बुलाया था. वहां से अभिताभ सिंह व मंटू सिंह ने उसे चंदवारा के उरवां चलने को कहा. वहां उन्होंने गाड़ी में शराब लोड कराई थी.

पूरे मामले को लेकर तिलैया थाना प्रभारी सह इंस्पेक्टर कामेश्वर ठाकुर के बयान पर केस दर्ज किया गया है. इसमें चालक के अलावा मंटू सिंह, अमिताभ सिंह व उरवां मोड़ के शराब दुकानदार व अज्ञात को आरोपी बनाया गया है. दर्ज मामले में आरोपियों के विरुद्ध धारा 272/273/290/420, 120 बी व 47(ए) उत्पाद अधिनियम लगाया गया है. थाना प्रभारी ने बताया कि मामले की जानकारी उत्पाद विभाग को भी दी गयी है. उरवां में स्थित दुकान के संबंध में जांच की जायेगी. इसमें अमिताभ सिंह व मंटू सिंह भागने में सफल रहे.

बताया जाता है कि बिहार में शराब पर पाबंदी के बाद झारखंड से इसकी तस्करी काफी बढ़ गयी है और अब तो राजनीतिक संरक्षण भी इसे मिल रहा है. इसके पहले आजसू नेता इसी प्रकरण में जेल जा चुके हैं. उनके यहां जनवरी में बिहार पुलिस ने सर्जिकल स्ट्राइक कर छापेमारी की थी. बाद में झारखंड पुलिस को इसकी जानकारी दी थी. और, अब भाजपा सांसद रविंद्र राय के प्रतिनिधि का पुत्र शराब तस्करी में गिरफ्तार हुआ है, जो झारखंड के राजनीतिक गलियारे में चर्चा का विषय बना हुआ है.

उधर सांसद प्रतिनिधि रामचंद्र सिंह की मानें तो एक सोची-समझी साजिश के तहत उनके राजनीतिक विरोधियों ने मेरे बेटे का नाम मामले में घसीटा है. पुलिस इसकी निष्पक्ष जांच करे. उन्होंने कहा कि पिछले दिनों जिलास्तरीय शांति समिति की बैठक में उन्होंने शराब पर अंकुश लगाने व शराब माफियाओं पर कार्रवाई की मांग की थी. इससे बौखला कर कुछ लोगों ने इस तरह की साजिश रची है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*