FOLLOW UP : प्रसन्नजीत ने किये कई खुलासे, SSP बोले – अभी कई नाम हैं सामने

prasannjit1
प्रसन्नजीत

पटना : चेक की क्लोनिंग कर दूसरों के बैंक अकाउंट से रुपए गायब करने का धंधा लंबे समय से चल रहा था. अब पटना पुलिस ने भी मान लिया है कि इसके पीछे एक बड़ा रैकेट राजधानी के अंदर काम कर रहा था. प्रसन्नजीत उर्फ चार्ल्स इस रैकेट में अकेले शामिल नहीं है. कई और लोग भी हैं, जो इस रैकेट में पूरी तरह से शामिल थे.

पुलिस के सामने रैकेट में शामिल लोगों के नामों का खुलासा हो गया है. नामों का खुलासा किसी और ने नहीं, बल्कि रिमांड पर लाए गए शातिर प्रसन्नजीत ने ही किया है. इसने कई सारे राज पूछताछ के दौरान उगले हैं. जिसे पुलिस की टीम अभी क्राॅस चेक करने में लगी है. क्राॅस चेक में अगर प्रसन्नजीत के दिए गए इंफाॅरमेशन सही साबित हुए तो जल्द ही इस मामले में कई नए लोगों पर पुलिस अपना शिकंजा कस सकती है. उन्हें अरेस्ट कर सकती है.

डिटेन किया गया एक शख्स

48 घंटे की रिमांड पर प्रसन्नजीत को पूछताछ के लिए लाया गया था. गर्दनीबाग और कदमकुआं थाने की पुलिस टीम ने लंबी पूछताछ की. दोनों की पूछताछ में कई सारी बातें सामने आई. इसके निशानदेही पर एक शख्स को पूछताछ के लिए पुलिस ने अपने कब्जे में लिया है. मंगलवार को उसे डिटेन किया गया. कई प्वाइंट पर उससे सवाल पूछे जा रहे हैं. डिटेन किए गए शख्स की संलिप्तता सामने आते ही उसे अरेस्ट भी किया जा सकता है.

prasannjit1
प्रसन्नजीत

बढ़ गया रिमांड

प्रसन्नजीत के साथ हुई अब तक की पूछताछ पुलिस टीम के लिए नाकाफी थी. इस लिए पटना पुलिस की ओर से रिमांड की अवधि बढ़ाने के लिए कोर्ट में अपील की गई थी. जिस पर कोर्ट ने मंगलवार को प्रसन्नजीत के रिमांड की अवधि को अगले 48 घंटे के लिए बढ़ा दिया है. दूसरी ओर पुलिस की एक टीम इसके और नरगिस के बैंक अकाउंट्स से हुए रुपयों के लेन देन को बारीकी से खंगाल रही है.

इस बारे में पटना एसएसपी मनु महाराज ने कहा कि एक शख्स को डिटेन किया गया है. उससे पूछताछ चल रही है. कई और लोगों के नाम सामने आए हैं. पासपोर्ट और डीएल के मामले पर भी जांच चल रही है.

यह भी पढ़ें –

गर्लफ्रेंड के साथ भी जालसाजी करता था प्रसेनजीत, कहा – तुम्हारे लिए मॉल बनवाउंगा

महावीर कैंसर संस्थान की नर्स से ठग लिए 45800 रुपये, फ्री कार गिफ्ट मिलने के लालच में फंसी

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*