लूट तो बहाना है, आशा देवी की हत्या पर सवाल कई और हैं…

पटना : 10 सितंबर को शिवपुरी में अपराधियों ने जिस तरीके से घर के अंदर ही आशा देवी की हत्या की वारदात को अंजाम दिया, वो कतई आसान नहीं था. लेकिन इसे आसान बनाया अपराधियों ने अपने शातिर दिमाग का इस्तेमाल करके. आशा देवी की हत्या के लिए अपराधियों ने एक फुल प्रुफ प्लान तैयार किया. हत्या को लूट की तरफ डायवर्ट करने का तरीका भी अपराधियों के उसी फुल प्रुफ प्लान का हिस्सा है. ताकि पटना पुलिस की टीम और फैमिली वाले ये समझें कि अपराधी आए थे और लूटने के क्रम में आशा देवी की हत्या कर चलते बने. लेकिन ऐसा कतई नहीं है.

आशा देवी की हत्या के पीछे एक बड़ा राज छीपा है, वो राज क्या है? ये तो पटना पुलिस की जांच में ही सामने आएगा. फिलहाल एक बड़ी बात सामने आई है. जो ये साबित करती है कि आशा देवी की हत्या लूट पाट के दौरान नहीं हुई है. दरअसल, बात हत्या से कुछ दिन पहले की है. आशा देवी का घर करीब 7 दिनों तक खाली पड़ा था. उस दौरान वो पटना सिटी में अपने फैमिली के घर पर थीं. अगर किसी को उनके घर के अंदर चोरी या लूटपाट करना ही होता तो वो 7 दिन इसके लिए काफी थे. लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

ये बात शास्त्री नगर थाने की पुलिस टीम की जांच में सामने आई है. इस बात की पुष्टि सिटी एसपी सेंट्रल अमरकेश दारपीनेनी ने भी की है. इनके अनुसार इस मामले में अब तक तीन संदिग्धों से पूछताछ की गई. लेकिन उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला, इस लिए उन्हें छोड़ दिया गया. हालांकि इस मामले में कुछ रिश्तेदारों पर पुलिस टीम को शक जरूर है. अब आगे की जांच में ही पूरा मामला सामने आ पाएगा.

Golden Opportunity : पटना एयरपोर्ट के पास 1 करोड़ का लग्‍जरी फ्लैट, बुकिंग चालू है

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*