क्विट शुगर कैम्पेन: चीनी की जगह गुड़ का करें प्रयोग, रहेंगे स्वस्थ

quit-sugar

पटनाः चीनी एक मीठा जहर है जो हमारे शारीर को कैंसर कारक बनाता है. आज के जीवनशैली में हम ये भूलते जा रहे है की आज हमारे देश में सुगर से करोड़ों लोग जूझ रहे हैं. नकारता है जो गलती से हमारे रसोईघर में स्थापित हो चुका है. यह बदलाव की प्रकिया धीरे-धीरे होगी लेकिन इसका प्रभाव दूरगामी होगा. चीनी छोड़ गुड़ खाने की क्विट शुगर कैम्पेन के बदलाव का साक्षी बनाने में हमलोग समाज के अलग-अलग लोगों से मिल रहें हैं.

स्टूडेटस ऑक्सीजन मूवमेंट के कन्वेनर बिनोद सिंह ने बिहार के विख्यात अर्थशास्त्री आद्री के डा० शैबाल गुप्ता से मुलाकात कर क्विट शुगर कैम्पेन में उनका सहयोग मांगा. डा० शैबाल गुप्ता अर्थशास्त्री हैं और क्विट शुगर कैम्पेन में उन्हें रुरल इकोनामी को बढ़ावा देने वाला तत्व मिला. डा० शैबाल गुप्ता ने कहा कि एक तरफ चीनी नहीं खाने से हम बीमार नहीं पड़ेगे, स्वस्थ रहेंगें तो दूसरी तरफ किसानों के हाथों हमें तो मिलेगा ही, किसान के परिवार को भी तुरंत फायदा होगा. अनजाने में चीनी खाते-खाते हम सब डायबीटिक और अलग-अलग रोग से परेशान हो रहें है. मैनें तो चीनी खाना बंद कर दिया है लेकिन ये काफी नहीं है. क्विट शुगर कैम्पेन को देशव्यापी कैम्पेन बनाने में मेरी पूरी मदद रहेगी ताकि हर घर से चीनी निकल सके, किसी बच्चे को चीनी का लत ना लगे, सब नैचुरल तरीके से प्राप्त गुड़ खायें और स्वस्थ रहें.

quit-sugar

स्टूडेन्ट्रस ऑक्सीजन मूवमेंट के संयोजक बिनोद सिंह ने डा० शैबाल गुप्ता को क्विट शुगर कैम्पेन में सहयोग देने के लिए धन्यवाद दिया और आशा जतायी की उनकी संस्था आद्री इस विषय पर विशेष डाक्यूमेंट तैयार करेगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*