NMCH के जूनियर डॉक्टर्स को पहले दिया अल्टीमेटम, अब काट दी घर की बिजली

पटना (जुलकर नैन) : एनएमसीएच के जूनियर डॉक्टर के क्वार्टर का लाइट काट दिया गया है. जूनियर डॉक्टर उमेश कुमार ने बताया कि एमसीआई नियम है कि जैसे ही छात्र नामंकन कराते हैं उनके रहने का बंदोबस्त कॉलेज प्रशासन को करना होगा. नामंकन के बाद छात्र जब अधीक्षक से मिलें तो उन्होंने कहा कि जाइए आप लोगों को जहां रहना है वहां रहिए. 2 दिन पहले अधीक्षक के कार्यालय से नोटिस आया कि 48 घंटे के अंदर आपको रूम को खाली करना है.

आज जब 48 घंटे पूरे हुए तो जूनियर डॉक्टर का प्रतिनिधि एनएमसीएच अस्पताल के अधीक्षक डॉ. एपी सिंह के पास मिलने को गया तो अधिक्षक डॉ. एपी सिंह ने कहा की हमको कोई मतलब नहीं है. आप लोग को जहां रहना है रहिए. जूनियर डॉक्टर का कहना है कि कई डॉक्टर लड़कियां भी हैं. कई का तो नाईट में ड्यूटी है तो रात को भूतनाथ रोड से एनएमसीएच अस्पताल आना संभव नहीं है, कहा कि जब रात में आराम नहीं करेंगे तो काम कैसे करेंगे.

जूनियर डॉक्टर शिखा रोलीक ने बताया कि हम लोगों को बहुत दिक्कत हो रही है. क्वार्टर का लाईट काट दिया है. अगर अस्पताल के अधीक्षक ने हम लोगों को रूम खाली करने का आदेश दिया है तो पहले हमारे रहने का इंतेजाम करें नहीं तो हम लोग स्ट्राइक करेंगे और उसके बाद जो भी होगा उसके जिम्मेदार एनएमसीएच अस्पताल प्रसाशन होगा.

एनएमसीएच अस्पताल के अधिक्षक डॉ. एपी सिंह ने बताया की नर्सिंग आवास को हैंडओवर के पहले बिजली व पानी की समुचित व्यवस्था संवेदक को करना है. संवेदक को काम करने में परेशानी हो रही है. ऐसे हालत में हर हाल में छात्रों को नवनिर्मित विवाहिता नर्सिंग क्वार्टर खाली करना है. अगर खुद से खाली नहीं किया तो पुलिस प्रसाशन के सहयोग से कमरा खाली कराया जाएगा. अधीक्षक ने कहा कि नर्सिंग क्वार्टर खाली ना करने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*