राजद का हमला, मर्यादित विरोध की तमाम सीमाएं लांघ चुके हैं सुमो

पटना (नियाज़ आलम) : भाजपा नेता सुशील मोदी और राजद के बीच जुबानी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है. दोनों पार्टियां एक दूसरे पर झूठ और फरेब की राजनीति करने का भी आरोप भी लगा रही हैं.

वार-पलटवार के क्रम में राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं भाजपा नेता सुशील मोदी खुले के खुलासे की नौटंकी करते -करते मर्यादित विरोध की तमाम सीमाएं लांघ चुके हैं. झूठ, पाखंड और फरेब के आधार पर दूसरों के सार्वजनिक रूप से उपलब्ध दस्तावेज पर गैर जिम्मेदाराना सवाल और अपने बेनामी मकड़ जाल पर आपराधिक चुप्पी उनकी हताश राजनीति की केंद्रबिंदु हो चुकी है. झा ने कहा कि भाजपा के वरिष्ठ सांसद शत्रुघ्न सिन्हा पर उनकी घटिया और अमर्यादित टिप्पणी पूरे लोकजीवन को शर्मसार कर गई है. सिन्हा ने सिर्फ इतना आग्रह कि ‘हमें नकारात्मक राजनीति से बचना चाहिए’.

उन्होंने कहा कि लोकजीवन और राजनीति में असहमति और विरोध स्वाभाविक है और होना भी चाहिए, लेकिन ये हमेशा मर्यादा और शालीनता की हदों में होना चाहिए. ‘गद्दार’ और ‘गुंडे’ जैसे अशोभनीय शब्दों के प्रयोग से राजनीति गंदी होती है. उन्होंने कहा कि यह तो स्पष्ट है कि भाजपा में अपनी जगह और प्रासंगिकता खो चुके सुशील मोदी के साथ सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. मनोज झा ने कटाक्ष करते हुए कहा है कि वैचारिक और राजनीतिक विरोध के बावजूद हम उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं, ताकि बिहार और पूरे मुल्क के लोकविमर्श को इस तरह की अवांछित टिप्पणियों से निजात मिल सके. दोनों पार्टियां लगातार एक दूसरे पर जुबानी तीर चला ला रही हैं. अब देखना है कि राजद के हमले के बाद बीजेपी क्या पलटवार करती है.

यह भी पढ़ें-हिम्मत है तो मोदी सरकार तीन साल का रिपोर्ट कार्ड जारी करे : नीरज कुमार

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*