6 जून से लापता विक्की की हो चुकी है हत्या, अब सामने आई सच्चाई

पटना : करीब ढ़ाई महीने से लापता अभिषेक उर्फ विक्की की हत्या कर दी गई है. 4 लोगों ने मिलकर उसे दर्दनाक मौत दी थी. हत्या के बाद उसके लाश को भी ठिकाने लगा दिया था. किसी को उसकी हत्या का पता न चले, इस लिए उसकी लाश को रेलवे लाईन के किनारे एक नाला में फेंक दिया था. लाश को फेंकने से पहले उसे बोरे में पैक कर दिया था. इसलिए किसी को उसकी हत्या का पता नहीं चला.

विक्की के परिजनों की तत्परता से उसकी हत्या का खुलासा हो सका है. मामला पटना के कोतवाली थाना का है. विक्की पटना जंक्शन के पास स्थित गोरिया टोली इलाके का रहने वाला था. दरअसल, 6 जून को विक्की अपने घर से निकला था. उसके बाद वो वापस घर नहीं आया. मां ने बेटे के लापता होने की कंप्लेन कोतवाली थाने में की थी. लेकिन परिजनों का आरोप है कि उनके मामले को पुलिस ने कभी गंभीरता से लिया ही नहीं. शनिवार को परिजनों ने ही सोनू नाम के युवक को पकड़ा. उसने ही हत्या किए जाने की बात कबूल की. फिर उसे पुलिस के हवाले किया गया.

इस तरह की गई थी विक्की की हत्या

पुलिस ने सोनू से पूछताछ की. जिसमें उसने सारे राज उगले. पुलिस को दिए अपने बयान में उसने बताया कि जक्कनपुर एरिया में एक किराए का मकान था. जहां पर शंकर, सोनू और सलवा समेत 4 लोग थे. वहीं पर कॉल कर विक्की को बुलाया गया. पहले उसे नशे की गोली खिलाई गई. फिर सभी ने मिलकर शराब पी. इसके बाद उसका गला रेता. फिर चाकू से कई जगह शरीर पर वार किया. मौत होने के बाद उसकी बॉडी को एक बोरा में पैक किया. ठेले पर लाद कर जक्कनपुर एरिया में ही दो पुलवा के नजदीक रेलवे लाइन से सटे नाले में फेंक दिया.

जेल में है शंकर

हत्या के पीछे का विवाद जुआ और रुपया है. साथ ही शराब की सप्लाई का अवैध धंधा भी. पुलिस के अनुसार मौत के घाट उतारे गए विक्की का भी आपराधिक इतिहास रहा है. सोनू के निशानदेही पर पुलिस ने सलावा को अरेस्ट कर लिया है. जबकि तीसरा शख्स फरार है. वहीं चौथा अपराधी शंकर पहले से जेल में है. विक्की के हत्या के चंद दिनों के बाद ही पुलिस ने शराब मामले में उसे पकड़ था. अब पटना पुलिस की टीम मास्टर माइंड शंकर को रिमांड पर लेगी और पूरे मामले में पूछताछ करेगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*