नोहसा गांव में एक दिवसीय इस्लामी कॉन्फ्रेन्स आयोजित

पटना (अजीत) : फुलवारीशरीफ में इस्लामिक विद्वान ई यूसुफ ने कहा कि वर्तमान परिस्थीतियों मे मुसलमान की जिम्मेवारियां बढ़ गयी हैं. देश और दुनिया की हालत ठीक नहीं है. षडयंत्र कर मुसलानों की छवि को धूमिल करने में फिरकापरस्त ताकतें लगी हुयी हैं. इस षडयंत्र को असफल करने के लिए मुसलाम एक जुट होजाये. शनिवार की देर शाम नोहसा मिल्ली कमेटी की ओर एक दिवसीय इस्लामी समाज काॅन्फ्रेंस  में ई यूसूफ लोगों को सम्बोधत कर रहे थे.
उन्होने कहा कि आज के परिवेश में मुसलामानों की जिम्मेवारी बढ़ गयी है. लोगों के बीच भाईचारा, प्रेम, आपसी सौहार्द बनाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि इस्लामी समाज के निर्माण के लिए यह जरूरी है कि मुसलमानों को शिक्षित करें. इसलामी शिक्षा के साथ-साथ आधुनिक शिक्षा प्राप्त करें. इसलामी शिक्षा के बगैर सभ्य समाज का निर्माण नहीं हो सकता. कुरान और हदीस की रौशनी में जीवन गुजारने की अपील करते हुए कहा कि आपसी घरेलू विवाद को आपस मे बैठ कर सुलझायें. अगर मामला नहीं सुलझता है तो दारूल कजा में जाये और मामले को निपटायें.
इस दौरान खुर्शीद आलम नदवी ने कहा कि इस्लाम के अंतिम पैगम्बर मोहम्मद स0व0 के आर्दशों को अपनायें और उनके बताये हुये रास्ते पर चल कर ही समतामूलक समाज का निर्माण हो सकता है. पैगम्बर मोहम्मद का हर एक पहलू का विस्तृत विवरण करते हुये कई हदीस का हवाला भी दि. मो अली नदवी ने कहा कि इस्लाम के पांच सतून तौहिद नमाज, रोजा, हज, जकात है. नमाज की महत्व पर जोर देते हुये उन्होंने कहा कि हर व्यस्क मर्द और औरतों पर नमाज फर्ज है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*