नहीं जीत सकी मिथिला की बेटी मैथिली, बेनेट बने ‘राइजिंग स्टार’

लाइव सिटीज डेस्क : मधुबनी की मैथिली ठाकुर कलर्स चैनल के रियलिटी शो ‘राइजिंग स्टार’ की विजेता बनने से चूक गयी हैं. आखिरी लम्हों में उनसे 1% ज्यादा वोट पाकर बेनेट दोसांझ पहले ‘राइजिंग स्टार’ बन गए. रविवार को फिनाले में पहले राउंड में मैथिली ने ‘मोरे सैंयां तो हैं परदेस, मैं क्या करूं सावन का…’ गाकर मौजूद श्रोताओं का मन मोह लिया था. तो वहीँ अगले राउंड में उन्होंने ‘याद पिया की आये रे…’ गाया. मैथिली के गीतों और उनकी आवाज की बहुत तारीफ़ हुई थी.

रविवार को फाइनल में उनका मुकाबला अंकिता कुंडू और बेनेट दोसांझ के साथ था. कार्यक्रम जैसे-जैसे आगे बढ़ा, अगले राउंड्स में पॉइंट्स के आधार पर अंकिता बाहर हो गयीं. इस तरह अंत में मैथिली का मुकाबला टॉप टू में बेनेट दोसांझ के साथ था.

फाइनल में बतौर जज जानेमाने संगीतकार शंकर महादेवन, मोनाली ठाकुर और पंजाबी एक्टर-सिंगर दिलजीत दोसांझ मौजूद थे. वहीँ बॉलीवुड स्टार अनिल कपूर ने भी फिनाले में स्पेशल गेस्ट के तौर पर मौजूद थे. मियांग चैंग और राघव ने एंकर के तौर पर शो को बाखूबी संचालित किया. शो के विनर को प्राइज मनी के साथ ही महेश भट्ट कि अगली फिल्म में प्लेबैक सिंगिंग करने का भी मौका मिलेगा.

इससे पहले शनिवार को 16 साल की मैथिली ठाकुर ने राइजिंग स्टार के फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली थी. बीते रविवार को हुये मुकाबले में मैथिली ने पहले पांच सेमीफाइनलिस्ट में अपनी गायकी से टॉप किया, तो इसके बाद उनका मुकाबला आइटीबीपी में काम करनेवाले विक्रमजीत सिंह से हुआ था.

बता दें कि मधुबनी की रहनेवाली मैथिली ठाकुर का बैकग्राउंड क्लासिकल म्युजिक है. मैथिली के करियर को बनाने के लिए उनका परिवार दिल्ली शिफ्ट कर गया है. मैथिली के पिता उसका साथ देने के लिए स्टूडियो में मौजूद थे. कार्यक्रम में मैथिली शुरू से ही अपने सुर का सिक्का जमाती रही हैं. मधुबनी जिले के बेनीपट्टी प्रखंड की मैथिली की गायिकी से मिथिला के निवासियों के दिलोदिमाग पर कवि कोकिल विद्यापति के गीत का जबरदस्त असर हुआ है.

राइजिंग स्टार को लेकर मिथिलांचल के घरों में रविवार की रात की विशेष तैयारी की गयी है. कई घरों में तो खाने बनाने का काम भी शाम में पूरा हो चुका है. कई स्थानों पर मन्नतें मांगने का कार्य चल रहा है.

About Anjani Pandey 35 Articles
I write on Politics, Crime and everything else.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*