दलहन फसल खराब होने से निराश किसान , अधिकारियों ने किया निरीक्षण

पटना :  ‘दाल का कटोरा’ कहे जाने वाले मोकामा टाल में दलहनी फसलों की खेती करने वाले किसान इस बार काफी परेशान हैं. प्रकृति की मार झेल रहे किसानो के समक्ष फसल उत्पादन का संकट खड़ा हो गया है. इस संबंध में बुधवार को मोकमा प्रखंड कृषि पदाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने किसान सलाहकारों और अन्य किसानों के साथ मोकामा टाल के कई हिस्सों का दौरा किया.

निरीक्षण के बाद प्रखंड कृषि पदाधिकारी ने बताया कि मरांची टाल में एक हजार बीघा से अधिक रकबा में खेती नहीं हो पाई है. उन्होंने कहा कि पूरी रिपोर्ट विभाग को सौंपी जाएगी. किसान नेता अरविंद सिंह ने बताया कि मरांची टाल के किसानों के समक्ष इस बार जबर्दस्त संकट है. उनकी मानें तो किसान टूट गए हैं. वहीँ मरांची उत्तरी पंचायत के मुखिया राम कुमार सिंह ने कहा कि मरांची टाल के वैसे किसानों को मुआवजा मिलना चाहिए जिनका खेत परती रह गया हो.

mokama-ke-maranchi-taal-me-adhikari-aur-kisan

आपको बता दें कि मोकामा टाल में जलजमाव के कारण इस बार देर से फसल की बोआई हुई है. देर से फसल की बोआई होने का कुप्रभाव भी अब देखने को मिल रहा है. दलहनी फसलों की खेती करने वाले किसानों ने बताया कि मोकामा टाल में मसूर और चना की फसल पर काफी प्रभाव पड़ा है. पौधे बीमार हो रहे हैं और सूखा रोग से ग्रसित हो रहे हैं. सूखा रोग से ग्रसित दलहनी फसल के पौधों की पत्तियां पीली होने लगी हैं और जिस पौधे के पत्ते पीले होते हैं वह पौधा भी तुरंत सूख जाता है.

यह भी पढ़ें :

760 पाउच देसी शराब के साथ दो गिरफ्तार

शिवम गिरफ्तार, तो क्या बबीता के लिए ही हुई थी ATM गार्ड की हत्या!

जगदीशपुर-हल्दिया गैस पाइपलाइन परियोजना का विरोध

इसी क्रम में किसानों की शिकायत पर अनुमंडल दंडाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने मोकामा प्रखंड कृषि पदाधिकारी को मोकामा टाल दलहनी फसलों के निरीक्षण का निर्देश दिया था. मरांची टाल में एक हजार बीघा से अधिक खेत में इस बार बोआई नहीं हो पाई है तथा वहां अभी भी जल जमाव देखा गया है. जिन हिस्सों में खेती हुई भी है वहां दलहनी फसल के पौधे सूखा रोग से ग्रसित पाए गए हैं.

देखें वीडियो : 

https://youtu.be/gQkzl9w3LgA

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*