ब्रेन ट्यूमर पीड़ित कृतिका को चाहिए ब्लड, पर कहां से लाएं रिश्तेदार

पटना : राजधानी दिल्ली के AIIMS में एडमिट नालंदा की छह माह की कृतिका का ऑपरेशन नहीं हो पा रहा है. वजह उसके ब्लड ग्रुप का खून न मिलना है.

ब्रेन ट्यूमर पीड़ित कृतिका के लिए खून न मिलने के पीछे की वजह AIIMS प्रशासन है. देश के सबसे बड़े अस्पताल के ब्लड बैंक ने कृतिका के लिए ऐच्छिक रूप से खून देने गए तीन लोगों को वापस लौटा दिया. अस्पताल का कहना है कि ये लोग बच्ची के परिवार के नहीं है, न ही उसके जान-पहचान वाले हैं. ऐसे में उनका खून नहीं लिया जा सकता है.

ब्लड डोनेशन के क्षेत्र में काम करनेवाले पटना के मुकेश हिसारिया का इस बारे में कहना है कि उन्होंने अबतक सैकड़ों लोगों को ऐच्छिक रूप से खून देने के लिए प्रेरित किया है. इस तरह ऐच्छिक रूप से ब्लड डोनेशन करने वालों की वजह से देश भर में हजारों लोगों की जान बचाई गई है. वो AIIMS में भी इससे पहले कई लोगों द्वारा अनजान जरुरतमंदों को ब्लड डोनेट करवा चुके हैं. हालांकि इस बार जब उन्होंने कृतिका के लिए तीन ब्लड डोनर को भेजा तो AIIMS प्रशासन ने मना कर दिया.

उन्होंने बताया कि नेशनल एड्स कंट्रोल आर्गेनाईजेशन (NACO) का भी परिवार वालों द्वारा ही ब्लड डोनेट करने से संबंधित कोई सर्कुलर नहीं है. जान-पहचान वाले लोगों द्वारा ही खून लेने की कोई पाबंदी नहीं है. वहीँ इस बारे में केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की असिस्टेंट डायरेक्टर शोभिनी राजन का कहना था कि ऐसी कोई पाबंदी नहीं है. उन्होंने मामले की जांच कराने की बात कही.

बता दें कि कृतिका पिछले काफी दिनों से AIIMS में भर्ती है. उसका ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव है. ऑपरेशन के लिए पहले कई बार उसके नाना खून दे चुके हैं. आगामी 22 दिसंबर को कृतिका का ऑपरेशन हो सके इसके लिए सोमवार को ब्लड डोनेट करने की आखिरी तारीख थी.

यह भी पढ़ें :

पूर्व सांसद किशोरी सिन्हा का निधन, बिहार में शोक

पार्टी मीटिंग के बाद नोटबंदी पर अगला स्टैंड लेंगे नीतीश

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*