यूपी में गौरक्षा के नाम पर नहीं चलेगी गुंडागर्दी

Sulkhan singh

लाइव सिटीज डेस्क : यूपी के नये डीजीपी सुलखान सिंह ने पदभार ग्रहण कर लिया. उन्होंने शनिवार को अपना योगदान दिया. उन्होंने जावेद अहमद की जगह ली है. नये डीजीपी ने पदभार ग्रहण करने के बाद ही अपनी मंशा मीडिया के सामने जाहिर कर दी. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ हमारी जीरो टालरेंस की नीति रहेगी. उन्होंने यह भी कहा कि गौरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी नहीं होने दी जायेगी.

यूपी के नये डीजीपी सुलखान सिंह ने शनिवार की सुबह पद पर योगदान करने के बाद मीडिया को संबोधित कहा. उन्होंने कहा ​कहा कि जो कोई भी आपराधिक गतिविधि में शामिल होगा, उसे किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जायेगा. फिर चाहे वह सत्ताधारी पार्टी का हो या किसी और पार्टी की. हमें इस संबंध में मुख्यमंत्री से सख्त आदेश मिले हुए हैं. किसी भी तरह की गुंडागर्दी उत्तर प्रदेश की पुलिस बर्दाश्त नहीं करेगी और निष्पक्षता के साथ कार्रवाई की जायेगी.

Sulkhan singh

सुलखान सिंह ने कहा कि हम भ्रष्टाचार के खिलाफ ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति अपनायेंगे. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि गौरक्षा के नाम पर किसी को आपत्तिजनक व्यवहार की इजाजत नहीं दी जायेगी और न ही किसी को गुंडागर्दी करने की आजादी दी जायेगी. ऐसे तत्वों पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी. उन्होंने यह भी कहा कि एंटी रोमियो स्क्वायड की सादे कपड़ों में तैनाती होगी. अफसर आपत्तिजनक व्यवहार करनेवालों के खिलाफ एक्शन लेंगे. उन्होंने कहा है कि हम निष्पक्षता से काम करेंगे.

इसे भी पढ़ें : यूपी में बड़ा उलटफेर : सुलखान सिंह बने नए DGP, जावीद अहमद गए PAC

गौरतलब है कि सुलखान सिंह 1980 बैच के आइपीएस अफसर हैं और यूपी कैडर के सबसे सीनियर आइपीएस अफसरों में शुमार हैं. वे टाडा में भी काम कर चुके हैं. उनकी गिनती बेहद ईमानदार अफसरों में होती है. चर्चा है कि उनके पदभार संभालते ही भ्रष्ट अफसरों में खलबली मच गयी है. यह भी कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्हें डीजीपी बनाकर सीधा संदेश दे दिया है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*