सीयूएसबी हुआ पूरी तरह कैशलेस 

पटना: डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के उद्देश्य से दक्षिण बिहार केंद्रीय विश्वविद्यालय ने नव वर्ष 2017 की शुरुआत से कैशलेस ट्रांजेक्शन के द्वारा ही सभी तरह की लेन-देन करेगी.
सीयूएसी के जन संपर्क अधिकारी  मो. मुदस्सीर आलम ने बताया कि दिसंबर के पहले हफ्ते में एमएचआरडी से प्राप्त दिशा-निर्देश के अनुसार विवि ने अपने पटना और गया कैंपस में वित्तीय साक्षरता अभियान  के तहत सभी तरह के लेनदेन को नए साल 2017 से नकदरहित कर दिया है. इस संबंध में सीयूएसबी के वित्त पदाधिकारी गिरीश रंजन ने बताया कि कुलपति प्रोफेसर हरिश्चन्द्र सिंह राठौर के मार्गदर्शन में कैशलेस सेवा शुरू की गयी है.
रंजन ने इस विषय में ज्यादा जानकारी देते हुए बताया कि विवि ने स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया की बिहार वेटेनरी कॉलेज ब्रांच के सहयोग से कैशलेस लेनदेन प्रक्रिया प्रारंभ की है. उन्होंने बताया की नकदरहित लेनदेन सेवा प्रारंभ करने एसबीआई वेटनरी ब्रांच के मुख्य शाखा प्रबंधक बिपिन कुमार एवं सिस्टम मैनेजर सुनील कुमार तथा सुदर्शन सिंह ने काफी अहम् भूमिका निभाई है. रंजन ने बताया कि बैंक के सक्रिय सहयोग से दक्षिण बिहार केंद्रीय विश्वविद्यालय में कैशेलस लेनदेन प्रक्रिया रिकॉर्ड समय में प्रारम्भ की जा सकी है
कैशलेस लेनदेन सुविधा के अधिक जानकारी विवि की वेबसाइट www.cusb.ac.in पर उपलब्ध हैं.  ऑनलाइन फी  सबमिशन इन्टरनेट बैंकिंग, डेबिट कार्ड एवं क्रेडिट कार्ड के माध्यम से सेमेस्टर रजिस्ट्रेशन, हॉस्टल, बस फी  जमा किया जा सकता है. वहीँ विवि के अधिकारी एवं कर्मचारीगण आधिकारिक कार्यों के पूरा करने के एडवांस में ली गई राशि का सेटलमेंट भी ऑनलाइन माध्यम से कर सकते हैं. यूँ कहे कि सीयूएसबी में हर तरह का भुगतान एसबीआई द्वारा प्रदान की गई ऑनलाइन माध्यम से कुछ मिनटों में किया जा सकता है और किसी को लाइन में लगने की ज़रूरत नहीं है. इसलिए यह कहा जा सकता है कि सीयूएसबी नकद रहित के साथ-साथ लाइन रहित हो गई है. सीयूएसबी में पहले से ही हर तरह के भुगतान ऑनलाइन माध्यम यानी एनईएफटी/आरटीजीएस के से किये जाते हैं जिनमें कर्मचारीयों की सैलरी भी शामिल हैं.
 

About Abhishek Anand 140 Articles
Abhishek Anand

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*