चंपारण सत्याग्रह के 100 साल : गांधी स्मृति यात्रा 18 से, सीएम करेंगे शुरुआत

champaran satyagrah

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ब्रिटिश शासन के खिलाफ महात्मा गांधी के सत्याग्रह को अप्रैल में 100 साल पूरे होने के अवसर पर ‘गांधी स्मृति यात्रा’ शुरू करेंगे. मुख्यमंत्री गांधी स्मृति यात्रा का शुभारंभ अब 18 अप्रैल, 2017 को मोतिहारी से करेंगे. इस दौरान वे पैदल यात्रा भी करेंगे. इसके बाद जनप्रतिनिधि, पदाधिकारी और आमलोग इस यात्रा को आगे जारी रखेंगे. पहले 15 अप्रैल से ही यात्रा शुरू करने का कार्यक्रम था. मुख्यमंत्री गांधी के चंपारण सत्याग्रह की कड़ी में आयोजित कार्यक्रमों के तहत 11 अप्रैल को मुजफ्फरपुर भी जाएंगे. चंपारण यात्रा के क्रम में महात्मा गांधी 11 अप्रैल 1917 को मुजफ्फरपुर पहुंचे थे.

गौरतलब है कि महात्मा गांधी ने 1917 में 18 अप्रैल को चंपारण यात्रा शुरू की थी. याद रहे कि 16 अप्रैल को महात्मा गांधी जब मोतिहारी से जसवली पट्टी के लिए रवाना हुए तो रास्ते में उन्हें चंपारण के तत्कालीन जिला मजिस्ट्रेट डब्लू. बी. हिकॉक का पत्र मिला, जिसमें उन्हें चंपारण आने का विचार त्याग देने का फरमान सुनाया गया था. गांधी जी ने उस आदेश को मानने से इनकार कर दिया. 18 अप्रैल को उन्हें एसडीओ के कोर्ट में पेश होकर आदेश की अवज्ञा करने का तार्किक जवाब पेश किया. उसी दिन वह चंपारण यात्रा पर निकल पड़े. यही कारण है कि गांधीजी के चंपारण सत्याग्रह के शताब्दी समारोहों के सिलसिले में मुख्यमंत्री ने गांधी स्मृति यात्रा के शुभारंभ की तिथि 18 अप्रैल तय की है.

चंपारण में किसानों और मजदूरों पर अंग्रेजी हुकुमत के जुल्म का जायजा लेने के लिए गांधीजी 10 अप्रैल को पटना पहुंचे और यहां से मध्य रात्रि को मुजफ्फरपुर पहुंचे थे. गांधी जी मुजफ्फरपुर में ही चार दिनों तक रहे और चंपारण सत्याग्रह की रणनीति बनाई. इसके बाद चंपारण जाने के क्रम में 16 अप्रैल को गांधी जी को कमिश्नर का वह पत्र दिया गया, जिसमें उन्हें यात्रा नहीं करने का आदेश दिया गया था. हालांकि कमिश्नर ने 13 अप्रैल को ही वह आदेश जारी किया था. गांधीजी ने आदेश को पढ़ा और उसे मानने से इनकार कर दिया था.

चंपारण यात्रा शताब्दी समारोह के तहत 11 अप्रैल को मुजफ्फरपुर में कार्यक्रम होने हैं. उसमें भी मुख्यमंत्री भाग लेंगे. 10 अप्रैल को मुख्यमंत्री पटना में शुरू हो रहे दो दिवसीय राष्ट्रीय विमर्श में भाग लेंगे. इसी दिन गांधी के चंपारण सत्याग्रह शताब्दी समारोहों की विधिवत शुरुआत होगी. इस विमर्श में देशभर के गांधी विचारक भाग लेंगे और अपनी बात रखेंगे. शताब्दी समारोह एक साल तक चलेगा. इसके तहत राज्यभर में कार्यक्रम होंगे.

यह भी पढ़ें- नालंदा यूनिवर्सिटी की नई VC बनीं सुनैना सिंह,विवादों में अंतरिम वीसी पंकज मोहन

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*