‘संसद सबसे बड़ा मंदिर, नोटबंदी पर पीएम वहां चुप क्यों’

पटना : बिहार कांग्रेस ने शुक्रवार को पूर्वनिर्धारित कार्यक्रम के अनुसार केंद्र सरकार की नोटबंदी के खिलाफ राजधानी में एकदिवसीय धरना-प्रदर्शन का आयोजन किया. आयोजन को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अशोक चौधरी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी कालेधन का हमेशा विरोध करती रही है, लेकिन नोटबंदी को लेकर जल्दबाजी में फैसला किया गया जिसके लिये रिजर्व बैंक तैयार नहीं थी. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में लोकसभा सबसे बड़ा मंदिर है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वहां नोटबंदी से उत्पन्न स्थिति पर कोई बयान नहीं देते हैं.

चौधरी ने कहा कि अचनाक से नोट बंद करने जनता को अपनी ही मेहनत और इमानदारी की कमाई बैंक से निकालने में परेशानी झेलनी पड़ी. देश की आर्थिक व्यवस्था चरमरा गयी है. लाइन में खड़े सौ से अधिक लोगों की मौत हो गयी.

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र सरकार कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के सवालों के जवाब नहीं दे रही है.  नोटबंदी के बाद व्यवस्था की खामियों के कारण रिज़र्व बैंक ने अपने नियमों में 90 बार बदलाव किये हैं.

अपने विरोध-प्रदर्शन के कार्यक्रम की जानकारी देते हुये डॉ. चौधरी ने कहा कि यह प्रदर्शन आगामी तीन महीने तक चलेगा. कांग्रेस के धरने में राज्य के उत्पाद एवं निबंधन मंत्री अब्दुल जलील मस्तान के साथ सैकड़ों अन्य नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे.

यह भी पढ़ें :

शराबबंदी : अल्कोहल कंपनी को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

नोटबंदी से आई उधारी कारोबार में ऐतिहासिक गिरावट

नोटबंदी से गरीबों की बढ़ी परेशानी : राष्ट्रपति

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*