पटना के अनिल अग्रवाल का अगला निशाना LG, कर सकते हैं $10 बिलियन का करार

लाइव सिटीज डेस्क : पटना के अनिल अग्रवाल ने जैसे ही दुनिया की सबसे बड़ी माइनिंग कंपनियों में शुमार एंग्लो अमेरिकन कंपनी के $2.44 बिलियन शेयर खरीदे, पूरी दुनिया में चर्चा फैल गई. ऐसा तो होना ही था, क्योंकि एंग्लो अमेरिकन वह कंपनी है, जिसकी एक इकाई डी-बीयर्स दुनिया में सबसे बड़े प्लैटिनम, डायमंड के प्रोड्यूसर्स हैं. अब अग्रवाल की निगाहें डी-बीयर्स के उन तकनीक के सोर्स पर हैं, जो दुनिया के किसी भी देश में नहीं है. दरअसल, अनिल अग्रवाल भारत में इस तकनीक को लाना चाहते हैं. कोरियाई कंपनी LG से चिप बनाने के लिए अनिल $10 बिलियन का समझौता करनेवाले हैं. अनिल इसके लिए लगातार LG कंपनी से बात कर रहे हैं. अनिल अग्रवाल चिप और इंटीग्रेटेड सर्किट बनाने के फेब्रिकेशन या फैब यूनिट नागपुर में लगाने वाले हैं. इस वजह से वो इस तकनीक का इस्तेमाल करना चाहते हैं.

 


आपको बता दें कि एंग्लो अमेरिकन कंपनी में अनिल अग्रवाल के वेदांता ग्रुप ने 13% हिस्सेदारी खरीद कर साउथ अफ्रीकी कंपनी के बाद दुनिया के दूसरे नंबर की कंपनी बन चुकी है. अनिल अग्रवाल कहते हैं कि डी-बीयर्स और एंग्लो अमेरिकन ये हमारे अच्छे साथी हैं. हम एंग्लो अमेरिकन से डी-बीयर्स को अलग नहीं करना चाहेंगे, बल्कि हम इनकी एडवांस तकनीक का फायदा उठा कर भारत में लाना चाहेंगे. उन्होंने कहा कि भारत में प्लैटिनम, गोल्ड, डायमंड, कॉपर, आयरन आदि की अपर क्षमता है और इसका बहुत बड़ा मार्केट यहां है. उन्होंने कहा कि हम फोरिन एक्सचेंज बचाना चाहते हैं. बिहार के अनिल अग्रवाल कहते हैं कि इन एडवांस तकनीक को भारत में लाने से देश के आयात बिल को बढ़ाने में मदद मिलेगी. यही हमारा उद्देश्य है. यही हमारा प्लान है. इसलिए हम उन्हें यहां अपना दोस्त बना रहे हैं.

आपको बता दें कि अनिल अग्रवाल बिज़नेस समिट 2017 में बोल रहे थे. जब उनसे एंग्लो अमेरिकन में और अधिक शेयर खरीदने के प्लान के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इस वक्त मैं इस पर कुछ नहीं कहना चाहूंगा. उन्होंने इस बात का भी संकेत दिया कि उनका समूह मध्य प्रदेश में एक हीरे के खान का प्रभार लेने के खिलाफ भी नहीं था, जिसे रियो टिंटो ने छोड़ दिया था.

यह भी पढ़ें- इंडियन पोस्टल पेमेंट बैंक की बूम, कई इंटरनेशनल बैंकों की नजर

कैबिनेट का फैसला : सातवां वेतनमान, थोड़ा और करें इंतजार...

अनिल अग्रवाल अब जल्दी ही देश में पहला चिप कारखाना खोलने जा रहे हैं. जिसे फेब्रिकेशन या फैब यूनिट के नाम से भी जाना जाता है. इसके अंतर्गत अनिल की कंपनी अब इंटीग्रेटेड सर्किट, चिप का निर्माण करेंगे जो कि आज के दिनों में मोबाइल फ़ोन, टीवी, कंप्यूटर का अहम हिस्सा है. इसके लिए अनिल LG के साथ बातचीत कर रहे हैं. अनिल ने इस बारे में कहा कि 3 महीनों के अन्दर यह डील फाइनल हो जाएगी. प्रोसेस जारी है. इसमें हमारे अलावा एनी कंपनी भी इन्वेस्ट कर सकेगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*