डाटा इंट्री आॅपरेटर खोलेगा करोड़ों गबन का राज, जुटी है पटना पुलिस

पटना : इंवेस्टमेंट के नाम पर नन बैंकिंग कंपनी ने करोड़ों रुपए को गड़बड़ घोटाला किया है. पब्लिक के इंवेस्ट किए गए रुपयों को लेकर कंपनी के मालिक फरार हो गए हैं. मामला पटना के कोतवाली थाना का है. गबन का आरोप भारत कैपिटल सर्विस लिमिटेड, भारत गौरव निर्माण और मल्टि स्टेट हाउसिंग कोआॅपरेटिव प्राइवेट कंपनियों के मालिकों पर है. इस मामले में इनके मालिक राकेश मैनी, प्रभात आनंद झा, राम सागर दूबे, संतोष कुमार और इंन्द्र बहादुर सिंह नामजद हैं. ये सभी फरार चल रहे हैं.

पटना में डाकबंगला चौराहा के पास कौसल्या स्टेट में इन लोगों ने ब्रांच आॅफिस खोल रखी थी. जहां से पुलिस टीम मैनेजर साकेत कुमार और ब्रांच मैनेजर कन्हाई प्रसाद सिंह को पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है. करोड़ों रुपए गबन किए जाने के इस मामले में पटना पुलिस ने कंपनी के एक खास डाटा इंट्री आॅपरेटर प्रणव प्रियदर्शी को गिरफ्तार किया है. इसे पकड़ने के लिए कोतवाली थाने की पुलिस टीम बेगूसराय गई थी. वहां छापेमारी करने के बाद इसे पकड़ा गया.

पुलिस टीम इससे लगातार पूछताछ कर रही है. इसके निशानदेही पर कई डॉक्यूमेंट्स पुलिस के हाथ लगे हैं. पुलिस का दावा है कि इसके जरिए वो फरार चल रहे नन बैंकिंग कंपनियों के मालिकों तक पहुंच सकती है. बीजीएन के आॅफिस में प्रणव के निशानदेही पर ही पुलिस ने छापेमारी की. जहां से कंप्यूटर, प्रिंटर, बैंक का पासबुक, जमीन और उसकी रजिस्ट्री से जुड़े डॉक्यूमेंट्स को बरामद किया गया है.

इस पूरे मामले की जांच डीएसपी लॉ एंड आॅर्डर डा. मो. शिब्ली नोमानी की अगुआई वाली टीम कर रही है. जल्द ही इस मामले में कई और जगहों पर छापेमारी हो सकती है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*