फर्जी एफआईआर दर्ज करने के आरोप में फंसे इंस्पेक्टर संजीव शेखर झा

पटना: सस्पेंड चल रहे पुलिस इंस्पेक्टर संजीव शेखर झा अब और बुरी तरह से फंस गए हैं. उनके खिलाफ अब डिपार्टमेंटल कार्रवाई भी चलेगी. चूंकि उनके ​खिलाफ एक और बड़ा संगीन मामला सामने आ गया है. वो भी ऐसा संगीन मामला कि जिसके बारे में जान आपके भी होश उड़ जाएंगे. आरोप है कि पाटलिपुत्रा थाने का एसएचओ रहते में उन्होंने चोरी की एक फर्जी एफआईआर दर्ज की थी. उनका ये कारनामा कुछ महीने बाद पटना के एसएसपी मनु महाराज के संज्ञान में आया.

दरअसल, एनटीपीसी के सीनियर सेक्रेटरी कृष्ण मुरारी श्रीवास्तव के घर में 20 फरवरी को चोरी हुई थी. करीब 12 लाख रुपए से अधिक की संपत्ति शातिर चोरों ने चुरा ली थी. इस मामले में वो एफआईआर दर्ज कराने पाटलिपुत्रा थाने गए थे. उस वक्त संजीव शेखर झा ने एफआईआर नंबर 59—17 दर्ज किया था. लेकिन जब बाद में कृष्ण मुरारी श्रीवास्तव थाने गए और अपने केस की जानकारी मांगी तो चौंक गए. उस वक्त मौजूद पुलिस पदाधिकारी ने चेक किया और बताया कि एफआईआर नंबर 59—17 में तो चोरी की जगह कोई दूसरा केस दर्ज है.

फिर से दर्ज हुई एफआईआर

जून महीने में मामले की जानकारी एसएसपी मनु महाराज को हुई. एसएसपी के आदेश पर मामले की जांच हुई. तब तक पाटलिपुत्रा के थानेदार बदल चुके थे. टीएन तिवारी को जिम्मेवारी मिली थी. मामले की जांच की गई और आरोप सही पाया गया. इसके बाद चोरी का एफआईआर दर्ज की गई. अब इस मामले में एसएसपी ने डीएसपी लॉ एंड आॅर्डर डॉ. मो. शिब्ली नोमानी से रिपोर्ट मांगी है. संजीव शेखर झा के खिलाफ डिपार्टमेंटल कार्रवाई तय मानी जा रही है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*