अब प्राइवेट सेक्टर के एक्सपर्ट्स भी जायेंगे नीति आयोग, मिलेगा मोटा पैकेज

niti-aayog-poverty

लाइव सिटीज डेस्क : निजी सेक्टर के एक्सपर्ट्स के लिए एक खुशखबरी है. खबर है कि सरकारी थिंक टैंक नीति आयोग में निजी सेक्टर के एक्सपर्ट्स के लिए भी दरवाजे खोले जाने की तैयारी है. सचिव स्तर से लेकर तमाम तरह के पदों पर निजी क्षेत्र के लोगों को नियुक्ति दी जाएगी. बताते चलें कि अब तक नीति आयोग में नौकरशाही के लोग ही आवेदन करते रहे हैं, लेकिन नीति आयोग में ऑफिसर्स को प्राइवेट सेक्टर और अकादमिक संस्थानों से आवेदन करने वाले लोगों से भी मुकाबला करना होगा. फिलहाल नीति आयोग में शीर्ष पद सिविल सर्विसेज से आए लोगों जैसे आईएएस, आईपीएस और आईआरएस के अधिकारियों के लिए रिजर्व हैं.

अब तक संबंधित क्षेत्र के एक्सपर्ट्स को सदस्य के तौर पर नियुक्ति मिलती रही है, हालांकि इनकी संख्या भी काफी कम है. नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कहना है, ‘इस प्रयास के जरिए हम देश के विकास के लिए सबसे प्रतिभावान लोगों को चुन सकेंगे.’ योजना आयोग की जगह लेने वाले नीति आयोग से जुड़े एक सूत्र ने बताया, ‘वरिष्ठता के आधार पर प्रमोशन की नीति के दिन अब लद चुके हैं. इसकी वजह यह है कि आयोग अब सभी स्तर के पदों पर सीधी एंट्री पर विचार कर रहा है. इनमें वरिष्ठ सलाहकार (सेक्रटरी रैंक), सलाहकार (अडिशनल सेक्रटरी रैंक), जॉइंट अडवाइजर्स और डेप्युटी अडवाइजर्स जैसी रैंक भी शामिल हैं.

niti-aayog-poverty
बीते दो सालों में नीति आयोग ने प्राइवेट सेक्टर से टैलंट को हायर करने की कोशिशें की हैं, लेकिन अब तक इन्हें निचले और मध्यम स्तर के पदों के लिए ही भर्ती किया गया है. इन लोगों को ऑफिसर्स ऑन स्पेशल ड्यूटी के तौर पर नियुक्तियां दी गई हैं. आयोग की ओर से नियुक्तियों को लेकर दिए गए नए प्रस्तावों के मुताबिक बाहरी एक्सपर्ट्स को सभी पदों के लिए आवेदन का मौका दिया जाएगा. इसके अलावा नौकरशाह भी आवेदन करेंगे और मेरिट के आधार पर नियुक्तियां की जाएंगी.

यह भी पढ़ें- सब्सिडी का सिलेंडर महंगा, बिना सब्सिडी वाला सस्ता

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*