अजब-गजब : गणित व अंग्रेजी के शिक्षक करायेंगे साइंस के प्रैक्टिकल

जमुई : सुर्खियों में रहने के आदी और पूर्व में अपने कारगुजारियों से  निलंबन की प्रक्रिया झेल चुके खैरा प्लस टू विद्यालय के प्रधान रामवृक्ष यादव एक बार फिर से चर्चा में हैं. इस दफे उन्होंने विद्यालय में मौजूद अनुभवी शिक्षकों को छोड़ गणित और अंग्रेजी के दो नवनियुक्त शिक्षकों को इंटरमीडिएट के विज्ञान संकाय की प्रायोगिक परीक्षा लेने का जिम्मा सौंपा है.  गुरूवार को गणित की शिक्षिका अंजनी कुमारी तथा अंग्रेजी के शिक्षक रामरंजन कुमार विज्ञान प्रायोगिक परीक्षा के दौरान छात्रों की परीक्षा लेते दिखे.

खैरा प्रखंड क्षेत्र के खैरा स्थित प्लस टू उच्च विद्यालय में इन दिनों इंटरमीडिएट के कला एवं विज्ञान संकाय की प्रायोगिक परीक्षाएं आयोजित की जा रही है परंतु विद्यालय प्रधान की मनमानी का आलम यह है कि विज्ञान संकाय की भौतिक विज्ञान, रसायन शास्त्र और जीव विज्ञान की प्रायोगिक परीक्षाएं अंग्रेजी व गणित के शिक्षक आयोजित करवा रहे हैं. उक्त दोनों शिक्षकों ने माध्यमिक वर्ग के शिक्षण कार्य हेतु इसी हफ्ते विद्यालय में अपना योगदान दिया है तथा उच्च माध्यमिक की परीक्षाएं ले रहे हैं जबकि माध्यमिक वर्ग के कई अनुभवी शिक्षकों को इससे दूर रखा गया है. बताते चलें कि विद्यालय प्रबंधन की मनमानी का यह पहला मामला नहीं है. पूर्व में भी विद्यालय प्रधान पर इस तरह के आरोप लगे हैं. पूर्व में उन्हें निलंबित भी किया जा चुका है.

teacher
जानकारी के अनुसार प्लस टू उच्च विद्यालय में विज्ञान के शिक्षक का पद खाली है. जिस कारण प्रायोगिक परीक्षाएं पर सवालिया निशान लगने गया था. ऐसे में विद्यालय प्रधान रामवृक्ष यादव की मनमानी का नजारा विद्यालय में देखने को मिला. जानकारी पर जब विद्यालय की पड़ताल की गई तो विद्यालय की गणित की शिक्षिका अंजनी कुमारी तथा अंग्रेजी शिक्षक रामरंजन कुमार इस दौरान छात्रों की परीक्षा लेते दिखे. इधर जब मीडियाकर्मी विद्यालय का निरीक्षण करने पहुंचे तब आनन-फानन में विद्यालय प्रधान ने परीक्षाओं को रोक दिया. इस बाबत जब प्रभारी प्रधानाध्यापक रामवृक्ष यादव से पूछा गया तो उन्होंने अस्पष्ट तरीके से जबाब देते हुए कहा कि मुझे इस प्रकार का आदेश विभाग के आलाधिकारियों से मिला था. परंतु वो इस प्रकार के आदेश की प्रति दिखाने में असमर्थ रहे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*