हफ्ते भर में दूसरी बार रद्द हुई राजधानी, फ्लाइट भी हो रही कैंसिल

पटना :  2 नंवबर को राजेन्द्र नगर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस से टिकट कराने वाली फ्रूटी शर्मा की ट्रेन तो रद्द हो गई. इसके बाद उन्होंने अगले दिन की ट्रेन का वेटिंग टिकट निकाला. टिकट कन्फर्म नहीं हुआ. हार कर फ्रूटी ने 7 नवंबर को इंडिगो की फ्लाइट से नई दिल्ली जाने का टिकट बुक कराया. लेकिन अफसोस सात को इंडिगो की वो फ्लाइट भी कैंसिल हो गई. निराश होकर फ्रूटी घर लौट गईं. अगले दिन की फ्लाइट पकड़ कर दिल्ली गईं. लेकिन उसके पहले फ्रूटी ने फेसबुक पर अपने एक पोस्ट में भारतीय रेल और हवाई यातायात की बुरी हालत का जिक्र करते हुए निराशा जाहिर की.

frooti-sharma-23

राजेन्द्र नगर से चलकर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन जाने वाली ट्रेन नंबर 12309 यानी राजधानी एक्सप्रेस शुक्रवार को भी रद्द करने की घोषणा कर दी गई है. हफ्ते भर के अंदर ये दूसरी बार हुआ है. इससे पहले भी दो नंवबर को भी राजधानी एक्सप्रेस को रद्द कर दिया गया था. कोहरे के कारण दानापुर रेल मंडल से गुजरने वाली अधिकांश ट्रेनें देरी से चल रही हैं. नई दिल्ली की ओर जाने वाली ट्रेनों का हाल सबसे बुरा है. प्रायः ट्रेनें कम से कम पांच घंटे की देरी से चल रही हैं.

इसे भी पढ़ें : कोहरे की मार : 15 किमी प्रति घंटा हुई राजधानी-शताब्दी की रफ्तार

सीएम ने पूछा 8211; क्या बनोगे, बच्चों ने कहा नीतीश कुमार

राजधानी जैसा ब्रांड हुआ फेल

राजधानी ट्रेन को भारतीय रेलवे का ब्रांड माना जाता है. ऐसा अमुमन देखा जाता है कि राजधानी लेट नहीं हुआ करती है. लेकिन कोहरे का कहर ऐसा है कि राजधानी की रफ्तार भी सुस्त पड़ गई है. हफ्ते भर के अंदर दो दफे राजधानी का रद्द होना, साथ ही रोजाना चार घंटे की देरी से प्रस्थान औऱ पांच से छह घंटे के आगमन का सिलसिला चल रहा है. राजधानी से यात्रा को वरीयता देने वाला तबका ट्रेन के सुस्त रफ्तार से निराश होकर हवाई यातायात के विकल्प की ओर मुड़ गया है.

लेकिन हवाई यातायात भी तो ऐसा ही…

केवल रेल ही नहीं बल्कि हवाई यातायात का हाल भी बुरा है. जयप्रकाश नारायण एयरपोर्ट पर आने वाली इंडिगो, जेट आदि के अधिकांश फ्लाइटें देरी से चल रही हैं. रेल तो रद्द हो ही रहा है, साथ ही साथ फ्लाइटों की रद्द करना पड़ रहा है. फ्रूटी शर्मा के साथ हुआ वाकया इसे स्पष्ट करने के लिए काफी है.

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*