रिज़र्व बैंक : सभी 10 के सिक्के हैं वैलिड, नहीं लेने वाले ‘देशद्रोही’

लाइव सिटीज डेस्क : भारतीय रिज़र्व बैंक ने स्पष्ट किया है कि देश में प्रचलित 10 रूपये का कोई भी सिक्का अवैध नहीं है. सभी सिक्के अलग-अलग मौकों पर जारी किये गए हैं इसलिए इनकी डिजाइनों में फर्क है. बैंक ने कहा है कि उसने वक्त वक्त पर आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक थीम पर सिक्के जारी किए हैं और सिक्कों में 2011 में रुपए का चिन्ह शामिल करने के बाद बदलाव आया है.

देश में 10 रुपए के विभिन्न प्रकार के सिक्कों पर जनता के बीच भ्रम की स्थिति को लेकर भारतीय रिजर्व बैंक ने यह स्पष्टीकरण जारी किया है. बैंक का कहना है कि शेरावाली की फोटो वाला सिक्का, संसद की तस्वीर वाला सिक्का, बीच में संख्या में ‘10’ लिखा हुआ सिक्का, होमी भाभा की तस्वीर वाला सिक्का, महात्मा गांधी की तस्वीर वाला सिक्का सहित अन्य सभी सिक्के मान्य हैं. केन्द्रीय बैंक के अनुसार इन सिक्कों को विभिन्न विशेष मौकों पर जारी किया गया है.

बता दें कि 10 रुपए के सिक्कों के लेनदेन को लेकर लोगों के बीच अक्सर विवाद खड़ा हो जाता है. ज्यादातर लोगों का कहना है कि दस पत्ती वाला वही सिक्का मान्य है जिसमें 10 का अंक नीचे की तरफ लिखा है और दूसरी तरफ शेर का अशोक स्तंभ अंकित है. सबसे ज्यादा विवाद इसी डिज़ाइन वाले सिक्के पर है जिसके बीच में ‘10’ लिखा है और इसे नकली कहा जा रहा है. जबकि आरबीआई की ओर से एक मीडिया संस्थान को भेजे ईमेल में जानकारी दी गयी है कि यह सिक्का 26 मार्च 2009 को जारी किया गया था.

इस बारे में कॉरपोरेट मामलों के एक वकील ने अग्रेजी वेबसाइट ‘फर्स्टपोस्ट’ से कहा, ‘भारत की वैध मुद्रा को लेने से इनकार करने पर देशद्रोह का मामला बनता है और जो ऐसा करता है उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 124 (1) के तहत मामला दर्ज हो सकता है क्योंकि मुद्रा पर भारत सरकार वचन देती है. इसलिए इसको लेने से इनकार करना राजद्रोह है.’

राष्ट्रीय राजधानी सहित देश के कई हिस्सों में 10 रुपए के सिक्को को लेकर भ्रम की स्थिति है और कई दुकानदार और लोग इन सिक्कों को लेने से कतरा रहे हैं.

आरबीआई ने कहा है कि सिक्के लंबे समय तक सही रहते हैं इसलिए यह मुमकिन है कि बाजार में अलग अलग डिजाइन और छवि के सिक्के हों, जिनमें बिना ‘रुपए’ के चिन्ह वाले सिक्के भी शामिल हैं. हालांकि आरबीआई ने किसी का भी लीगल टेंडर वापस नहीं लिया है और सारे सिक्के वैध हैं.

यह भी पढ़ें :

सुशील मोदी बोले – लालू पर फिल्म बननी चाहिए, नाम होगा ‘रेज टू रिच’

बोले लालू, चिड़ियाघर को नहीं बेची एक भी पैसे की मिट्टी

नीतीश कुमार का केंद्र पर तंज, पहले दिल्ली को बनाएं स्मार्ट सिटी

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*